नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। बारिश और तेज हवा के चलते दो दिन तक मिली राहत के बाद शनिवार को बढ़ा प्रदूषण रविवार को भी जारी रहा। सुबह हवा की गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज किया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, सुबह 9 बजे हवा गुणवत्ता का स्तर (AQI) 281 पर दर्ज किया गया। जोकि खराब श्रेणी में आता है। वहीं मथुरा रोड पर हवा की गुणवत्ता 213 दर्ज किया गया।

वहीं केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के प्रदूषण मॉनीटरिंग स्टेशन में शनिवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 193 दर्ज हुआ, जो कि सामान्य श्रेणी में आता है। जबकि शुक्रवार को यह 84 दर्ज हुआ था।

20 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने का अनुमान

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार शनिवार को हवा की रफ्तार कम होने की वजह से प्रदूषक कण एक ही जगह पर ठहर गए। इससे प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी हो गई। वहीं मौसम वैज्ञानिकों ने कहा कि अभी दिल्ली में सामान्य श्रेणी में प्रदूषण की स्थिति बनी हुई है।

अगले दो दिनों 20 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने का अनुमान है। ऐसे में प्रदूषण का स्तर बहुत खराब श्रेणी में जाने की उम्मीद नहीं है। हालांकि रविवार की सुबह घना कोहरा छाने की संभावना है। अधिकतम तापमान 24 डिग्री और न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है।

पश्चिमी विक्षोभ की वजह से बढ़ रही है सर्दी

मौसम विभाग के वैज्ञानिक कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया है कि पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने के कारण उत्तर भारत के कई पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हुई है। इसकी वजह से वहां से ठंडी हवा दिल्ली में पहुंच रही है। इससे आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान में गिरावट आएगी। शनिवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ है। रविवार को यह और भी गिर जाएगा।

कम दृश्यता के कारण 15 विमान किए गए डायवर्ट

कोहरे का असर विमानों पर पड़ने लगा है। कम दृश्यता की वजह से आइजीआइ एयरपोर्ट पर आने वाली 15 उड़ानों को शनिवार को डायवर्ट कर दिया गया। इन्हें आसपास के एयरपोर्ट पर उतारा गया। कुछ घंटे बाद स्थिति सामान्य होने पर सभी उड़ानों को वापस आइजीआइ एयरपोर्ट पर उतारा गया। इसके अलावा तकनीकी कारणों से सिंगापुर एयरलाइन समेत चार विमान देरी से रवाना हुए।

एयरपोर्ट स्थित मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार सुबह चार बजे से ही आइजीआइ पर सामान्य दृश्यता कम हो गई थी। सुबह सात से नौ बजे तक दो रनवे की न्यूनतम दृश्यता 50 मीटर तक पहुंच गई थी। इसके बाद तकनीकी उड़ानों का संचालन किया जा रहा था। इस कारण अन्य एयरपोर्ट से आ रहे 15 विमानों को लखनऊ व जयपुर के लिए डायवर्ट कर दिया गया। एयरपोर्ट पर दृश्यता सही होने पर विमान वापस दिल्ली लाए गए। एयरपोर्ट अधिकारियों के मुताबिक कम दृश्यता में भी विमानों का संचालन तकनीक से किया जा सकता है। लेकिन पायलट इस तकनीक से प्रशिक्षित नहीं थे। इसके कारण विमान डायवर्ट किए गए।

ये भी पढ़ेंः AAP की लोकलुभावनी योजनाओं को मात देने की तैयारी में कांग्रेस, खेला बड़ा चुनावी दांंव

क्या निर्भया मामले में आरोपित राम सिंह की जेल में हुई थी हत्या? तिहाड़ के पूर्व अधिकारी ने उठाए सवाल

ये भी पढ़ेंः हैदराबाद के बाद दिल्ली में भी आया दिल दहला देने वाला मामला, दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस