नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज से निकाले गए दो लोगों की मौत हो गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसकी जानकारी गुरुवार को डिजिटल प्रेसवार्ता करके दी। उन्होंने बताया कि इन्हें मिलाकर अब चार मौत हो चुकी हैं। सीएम केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में कोरोना अभी तक नियंत्रण में है। इसे रोकने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 29 केस विदेश से आए थे। मरकज से 2346 को निकाला गया था।

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में अब तक कोरोना के 219 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 108 लोग निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज के लोग हैं।

तब्लीगी मरकज से निकाले गए 108 लोग कोरोना से पीड़ित 

बता दें कि तब्लीगी मरकज से निकाले गए 108 लोग कोरोना से पीड़ित पाए गए हैं। इसमें से 29 लोगों की रिपोर्ट बुधवार को पॉजिटिव आई। इसके अलावा वहां से निकाले गए 483 संदिग्ध मरीज विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं। इसके अलावा 1810 लोग सात क्वारंटाइन केंद्रों में रखे गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मरकज से कुल 2346 लोग निकाले गए हैं। इनमें से 536 लोगों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

सबसे अधिक लोकनायक, राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, एम्स के झज्जर स्थित राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (एनसीआइ), जीटीबी, डीडीयू अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। पहले 24 लोग पॉजिटिव पाए गए थे। बुधवार को यह संख्या बढ़कर 53 पहुंच गई। इनमें से छह मरीज एम्स, झज्जर में हैं। बाकी सभी मरीज राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती हैं।

वहीं क्वारंटाइन में रखे गए लोगों में कोरोना के लक्षण आने पर अस्पताल में स्थानांतरित किया जाएगा। सबसे अधिक नरेला फ्लैट में बनाए गए क्वारंटाइन केंद्र में में 987 लोगों को रखा गया है। इसके अलावा द्वारका में 200, सुल्तानपुरी डीडीए फ्लैट में 170, बक्करवाला डीडीए फ्लैट में 120, होटल में सात व स्कूल में 157 लोगों को रखा गया है।

मरकज के प्रमुख मौलाना मुहम्मद साद के खिलाफ केस दर्ज

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज में लॉकडाउन के दौरान जमात को ठहराने के मामले में दर्ज मुकदमे की जांच पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने क्राइम ब्रांच को सौंप दी है। इस मामले में पुलिस ने मरकज के प्रमुख मौलाना मुहम्मद साद समेत सात मौलानाओं को नामजद किया है। इसमें अन्य छह मौलानाओं में मुहम्मद अशरफ, मुफ्ती शरजाद, डॉ. जीशान, मुरसलीन सैफी, यूनुस व मो. सलमान शामिल हैं। ये सभी अलग-अलग राज्यों के मस्जिदों में मौलाना हैं। इसके अलावा अज्ञात के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। जांच में जिसकी भूमिका सामने आएगी पुलिस उन सभी को आरोपित बनाएगी।

 

ये भी पढ़ेंः Lockdown: ऑटो-टैक्सी व ई-रिक्शा चालकों को 5-5 हजार रुपये देगी दिल्ली सरकारः केजरीवाल

 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस