नई दिल्ली (जेएनएन)। दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को बैकफुट आते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में चल रहे मानहानि केस में माफी मांग ली है। इसी के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा बयान से पीछे हटने के बाद भाजपा नेता अवतार सिंह भड़ाना ने उनके खिलाफ दायर मानहानि के मामले को वापस ले लिया।

दोनों पक्षों की सहमति के बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने तीन साल पुराने मानहानि के मामले को बंद कर दिया। केजरीवाल ने भड़ाना पर आरोप लगाया था कि वह देश के सबसे भ्रष्ट व्यक्तियों में से एक हैं।

अतिरिक्त जिला न्यायाधीश सुरेंद्र एस राठी ने दोनों नेताओं की ओर से रखी गई बातों पर विचार किया और मामले का निस्तारण किया।

भड़ाना की ओर से पैरवी कर रहे वकील सूरत सिंह ने कहा कि जब केजरीवाल की ओर से बयान वापस ले लिया गया है तो वह भी इस मामले को आगे नहीं बढ़ाना चाहते।

कोर्ट में केजरीवाल की ओर से दायर हलफनामे में उन्होंने बयान वापस लेते हुए कहा कि भड़ाना के बारे में साथी ने गलत सूचना दी थी, जिसके कारण उन्होंने उनके खिलाफ बयानबाजी की। इसका उन्हें खेद है। साथ ही केजरीवाल यह भी कहा कि उनकी मंशा भड़ाना की छवि खराब करना नहीं था।

उल्लेखनीय है कि केजरीवाल द्वारा आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर भड़ाना ने उनके खिलाफ 2014 में मानहानि का मामला दर्ज कराया था।

जानें पूरा मामला

यहां पर बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने पूर्व लोकसभा सांसद अवतार सिंह भड़ाना के संबंध में 31 जनवरी 2014 को एक आपत्तिजनक बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि भड़ाना देश के सबसे भ्रष्ट व्यक्तियों में से एक हैं।

मचा था खूब बवाल

केजरीवाल की टिप्पणी को लेकर अवतार सिंह ने कहा था कि इससे उनकी सामाजिक प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची है। इतना ही नहीं उन्होंने केजरीवाल को तत्काल लीगल नोटिस भेज कर अपने बयान को वापस लेने व माफी मांगने की मांग की थी। वहीं अरविंद केजरीवाल की ओर से जवाब देने को लेकर बहुत बेरुखी दिखाई गई थी। 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस