नई दिल्ली (रीतिका मिश्रा)। देशभर में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। सरकार ने इससे बचाव के लिए 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा की है। लगातार कोरोना वायरस से बढ़ते मरीजों की सहायता करने और उन्हें मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराने के लिए प्रधानमंत्री ने 'प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति फंड' (पीएम केयर फंड) की भी स्थापना की है। इसमें लोग स्वेच्छा से दान कर सकते हैं।

कई लोग कर रहे हैं दान

प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति फंड में बड़े उद्योगपतियों, अभिनेता, नेता से लेकर आमजन ने अपनी स्वेच्छा अनुसार इसमें दान दिया।

सीबीएसई ने राष्‍ट्रहित में मदद का लिया फैसला

इसी कड़ी में रविवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने भी राष्ट्र की मदद करने का फैसला लिया है। सीबीएसई ने मदद के तौर पर प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति फंड में 21 लाख रुपये देने की घोषणा की है।

21 लाख रुपये योगदान का निर्णय

सीबीएसई ने एक नोटिस जारी कर कहा है कि सीबीएसई कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार के प्रयासों में सहयोग के लिए अपने ऐसे सभी कर्मचारियों की ओर से 21 लाख रुपयों का योगदान करने का निर्णय लिया है, जो स्वेच्छा से पीएम केयर फंड में अपने वेतन मे से दान करने के लिए आगे आए हैं।

सचिव अनुराग त्रिपाठी ने दी जानकारी

सीबीएसई के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने बताया कि प्रधानमंत्री के नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति राहत फंड (पीएम केयर फंड) के लिए ग्रुप-ए कर्मचारियों ने दो दिन का वेतन और ग्रुप-बी और सी कर्मचारियों ने एक दिन के वेतन का योगदान दिया है।

उल्लेखनीय है, इयसे पहले जेएनयू के नियमित शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों के एक दिन के वेतन को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में देने का फैसला किया है।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस