नई दिल्ली, गौरव वाजपेयी। समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य स्व. बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे दिनेश वर्मा का दिल्ली में इलाज के दौरान निधन हो गया है। उन्होंने मंगलवार दोपहर 12 बजे अंतिम सांस ली। वह दिल्ली के फोर्टिस एस्कोर्ट अस्पताल में भर्ती थे। 

बताया जा रहा है कि 28 जून को दिनेश वर्मा को निमोनिया की शिकायत होने पर दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस दौरान उनकी कोरोना जांच की गई। 29 जून को उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इससे पहले उनका लखनऊ के किसी अस्पताल में इलाज चल रहा था। इससे पहले दिनेश के पिता बेनी प्रसाद वर्मा का भी 27 मार्च को निधन हो गया था। बेनी प्रसाद भी लंबे समय से बीमार चल रहे थे।

लंबे समय से बीमार थे दिनेश वर्मा

मिली जानकारी के अनुसार, दिनेश वर्मा बेनी प्रसाद के बड़े बेटे थे। वह प्रदेश के भंडारण निगम में बाबू के पद पर कार्यरत थे। बताया जा रहा है कि किडनी और लिवर में परेशानी की वजह से उनका लंबे समय से इलाज चल रहा था। साल 2017 में उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था।

दिनेश वर्मा के निधन के बाद उनके परिजनों और रिश्तेदारों में शोक की लहर दौड़ गई है। फिलहाल उनका शव अभी दिल्ली में ही है। अभी इसकी जानकारी नहीं मिल पायी है कि उनका अंतिम संस्कार दिल्ली में किया जाएगा या फिर उनके गृह जिले बाराबंकी में। परिजनों या रिश्तेदारों की तरफ से अंतिम संस्कार के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पायी है। 

दिनेश के पिता बेनी प्रसाद वर्मा थे सपा के वरिष्ठ नेता

बता दें कि दिनेश वर्मा यूपी के बाराबंकी जिले के रहने वाले थे। उनके पिता बेनी प्रसाद वर्मा समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता थे। वह मुलायम सिंह के करीबी माने जाते थे। सपा सरकार में वह मंत्री भी रह चुके थे। बाद में सपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। यूपीए सरकार में उन्हें केंद्रीय मंत्री बनाया गया था। आगे चलकर बेनी प्रसाद वर्मा फिर से सपा में शामिल हो गए थे। वह विधायक के अलावा लोकसभा और राज्यसभा सांसद भी रह चुके थे।

 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस