नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली-एनसीआर में विभिन्न जगहों में आज सुबह प्रदूषण का स्तर खराब श्रेणी में दर्ज हुआ। एयर क्वालिटी इन्डेक्स (to the Air Quality Index) के डाटा के डाटा के अनुसार, दिल्ली के बुरारी इलाके में पीएम 2.5 का स्तर 256 और पीएम 10 का स्तर 249 दर्ज किया गया। जबकि शनिवार को दिल्ली का पीएम 2.5 का स्तर 164 माइक्रो ग्राम क्यूबिक मीटर (एमजीसीएम) दर्ज किया गया। वहीं पीएम 2.5 का सामान्य स्तर 60 एमजीसीएम होता है।  आज यानी दिवाली के दिन पटाखों की आतिशबाजी होती है तो इससे अगले दिन सोमवार को एयर इंडेक्स बेहद खतरनाक श्रेणी 370 तक जा सकता है।

उधर, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के प्रदूषण मॉनीर्टंरग स्टेशन में एयर इंडेक्स दिल्ली में शुक्रवार की तुलना में शनिवार को ज्यादा दर्ज हुआ। शनिवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 287 दर्ज हुआ। जबकि शुक्रवार को 284 दर्ज हुआ था।

मौसम विज्ञानियों के अनुसार दिल्ली में दिन भर हवा की गति सामान्य रही। सुबह 11.30 बजे से दोपहर 2.30 बजे के दौरान सिर्फ चार किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली। जिसके कारण दिल्ली में मौजूद प्रदूषक कण एक ही जगह पर ठहर गए और यह हवा की तेज गति न होने के कारण आगे नहीं बढ़ सके।

रविवार को पहुंच सकता है पराली का धुआं

मौसम विभाग के विज्ञानियों ने बताया कि रविवार के दिन उत्तर पश्चिम और पश्चिम दिशा से तेज गति से हवा दिल्ली की तरफ दस्तक दे सकती है। रविवार के दिन 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है। हालांकि पंजाब एवं हरियाणा में पराली जलाई जाती है तो इसका धुआं हवा के साथ दिल्ली पहुंच सकता है। रविवार को सुबह भी स्मॉग छा सकती है।

शनिवार को प्रदूषण का स्तर

दिल्ली- 287

फरीदाबाद- 259

गाजियाबाद - 303

नोएडा -280

ग्रेटर नोएडा - 248

गुरुग्राम -239

दिवाली पर होगी बिजली तो मिलती रहे बिजली

उधर, दिवाली की रात बिजली आपूर्ति में किसी भी तरह की बाधा नहीं हो इसके लिए बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम) ने पूरी तैयारी कर ली है। सभी फील्ड कर्मचारियों को अलर्ट पर रखा गया है। आरक्षित वाहन भी तैनात किए गए हैं, जिससे कि किसी भी तरह की खराबी को जल्द ठीक किया जा सके। डिस्कॉम अधिकारियों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इस बार आतिशबाजी कम होने से उन्हें बिजली आपूर्ति में निश्चित तौर पर मदद मिलेगी। इसके बावजूद सभी जरूरी तैयारी कर ली गई है जिससे कि दिवाली के दिन किसी तरह की परेशानी नहीं हो।

इस समय बिजली की मांग भी बहुत कम है। इसलिए उपभोक्ताओं को किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी। बिजली अधिकारियों का कहना है कि आतिशबाजी खासकर रॉकेट की वजह से बिजली उपकरणों को नुकसान पहुंचने का खतरा रहता है। बिजली उपकरण खराब होने पर बिजली आपूर्ति बाधित होती है जिसे बहाल करने में समय लगता है। 

वायु प्रदूषण को ध्यान में रखकर वर्ष 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी जबकि पिछले वर्ष सिर्फ ग्रीन पटाखे बेचने व चलाने की अनुमति दी गई थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश की वजह से कम आतिशबाजी हुई थी। इस बार भी सिर्फ ग्रीन पटाखे चलाने की अनुमति है।

  दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस