नई दिल्ली [ जेएनएन ]। आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने साफ कर दिया है कि वह सीलिंग मुद्दे पर अनशन नहीं करेंगे। केजरीवाल ने इस मुद्दे पर एक अप्रैल से भूख हड़ताल पर जाने का ऐलान किया था। इससे पहले उन्होंने सीलिंग से प्रभावित कारोबारियों से कहा था कि यदि 31 मार्च तक यह मसला नहीं सुलझता है तो फिर वह भूख हड़ताल पर जाएंगे। अचानक उनके इस फैसले से जहां व्‍यापारी अचरज में हैं , वहीं विपक्ष ने भी इस मामले में केजरीवाल को घेरना शुरू कर दिया है।

उधर, इस मामले में पार्टी का कहना है कि अनशन के बजाए अब केजरीवाल इस प्रकरण की मॉनिटरिंग करेंगे। केजरीवाल का बचाव करते हुए आप ने कहा कि सीलिंग मुद्दे पर दो अप्रैल से सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई होने वाली है। दिल्ली सरकार ने इस मामले में दो वरिष्ठ अधिवक्ता नियुक्त किए हैं।

पार्टी के दिल्ली प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि केजरीवाल ने अपने फैसले को कुछ वक्त के लिए टाला है। पार्टी की ओर से कहा गया कि कई व्‍यापारी संघ और वकीलों की ओर से केजरीवाल को सलाह दी गई है कि यह मामला शीर्ष अदालत में है। अब इस मसले की रोजाना सुनवाई होने वाली है। ऐसे में उनकी भूख हड़ताल कोर्ट की अवमानना जैसी होगी, जिससे नतीजा भी प्रभावित हो सकता है।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021