जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : प्रदूषण के खिलाफ जंग में पूर्वी निगम ने पूरा महकमा झोंक दिया है। बिल्डिंग विभाग के इंजीनियरों के साथ पर्यावरण प्रबंधन विभाग के सहायक निरीक्षकों को भी मैदान में उतार दिया गया है। हर वार्ड में दिन और रात में निगरानी के लिए अलग-अलग अधिकारियों को लगाया गया है। इसमें कनिष्ठ अभियंता से लेकर कार्यकारी अभियंता भी शामिल हैं। एक टीम वार्ड में नियमित तौर पर रहेगी, जबकि दो टीमें सुबह और रात के समय तैनात करने के लिए तैयार की गई हैं। यानी वार्डों में 24 घंटे निगरानी की व्यवस्था की गई है। ये टीमें खुले में कूड़े में आग लगाने, निर्माण सामग्री का मलबा पड़ा होने और प्रदूषण फैलाने वाले अन्य गतिविधियों पर नजर रखेंगी। नियमों का उल्लंघन पाए जाने पर चालान करेंगी। इसके अलावा छह सदस्यीय तीन अन्य टीमों का भी गठन किया गया है। ये टीमें शाहदरा उत्तरी जोन, दक्षिणी जोन और मुख्यालय से जुड़ी रहेंगी। जंग के लिए निगम ने जो रणनीति बनाई है, उसे एक बुकलेट में शामिल गया है। इसका वितरण निगम के सभी अधिकारियों और पार्षदों को किया जाएगा। निगम मुख्यालय में इसका विमोचन महापौर श्याम सुंदर अग्रवाल, स्थायी समिति के अध्यक्ष बीर सिंह पंवार, निगमायुक्त विकास आनंद और अपर आयुक्त शिल्पा शिदे ने किया।

इस मौके पर श्याम सुंदर अग्रवाल ने कहा कि प्रदूषण कुछ महीनों की समस्या नहीं है। यह एक दीर्घकालिक समस्या है तो इसका समाधान भी दीर्घकालिक ही होना चाहिए ताकि स्थायी समाधान हो सके। प्रदूषण की बढ़ती समस्या को देखते हुए निगम ने पूरे साल की कार्ययोजना तैयार की है। बीर सिंह पंवार ने कहा कि प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए निगम ने विशेष टीम बनाई है जो प्रदूषण फैलाने वाली गतिविधियों की निगरानी करेगी और उनके खिलाफ कार्रवाई भी करेगी। निगमायुक्त विकास आनंद ने कहा कि निगम ने प्रदूषण पर शिकंजा कसने के लिए काम करना शुरू कर दिया है। प्रदूषण फैलाने वाले कारकों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए विभिन्न कदम उठाए जा रहे हैं। निर्माण व विध्वंस सामग्री को खुले में फेंकने, कचरा जलाने, सड़क पर धूल, यातायात जाम आदि कई ऐसे कारक हैं जो प्रदूषण को बढ़ाते हैं। ऐसे स्थानों को चिन्हित कर रहे हैं जहां प्रदूषण का स्तर अधिक है और उसी के अनुसार कार्रवाई कर रहे हैं।

---

इंफोग्राफ के लिए

पूर्वी दिल्ली नगर निगम

कुल वार्ड : 64 कुल नियोजित औद्योगिक क्षेत्र : 05

अनियोजित औद्योगिक क्षेत्र : 03 40 वाटर स्प्रींकलर मशीनें सड़कों पर पानी डालने के लिए लगाई गई हैं।

20 स्वीपिग मशीनों के जरिये चौड़ी सड़कों से धूल हटाई जाएगी

2 एंटी स्माग गन आनंद विहार और विवेक विहार तैनात किए गए हैं। सड़कों पर गड्ढों की हालत

क्षेत्र गड्ढे भरने हैं गड्ढे भरे गए

शाहदरा उत्तरी जोन 54 305

शाहदरा दक्षिणी जोन 62 225 पौधारोपण अभियान की हालत

लक्ष्य 20,000

लगाए गए : 13,500

Edited By: Jagran