राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली : केरल में फैले निपाह वायरस के संक्रमण के मद्देनजर दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य सेवाएं महानिदेशालय ने दिशा-निर्देश जारी कर लोगों से सतर्क रहने के लिए कहा है। महानिदेशालय ने लोगों को केरल में निपाह वायरस के संक्रमण से प्रभावित जिलों में नहीं जाने और वायरल बुखार होने पर डॉक्टर को तुरंत दिखाने की सलाह दी है। महानिदेशालय ने स्वास्थ्यकर्मियों को भी सतर्क रहने का निर्देश दिया है और कहा है कि मरीज की जांच के दौरान डॉक्टर व नर्स व्यक्तिगत बचाव के उपकरणों का इस्तेमाल करें। हालांकि, जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि निपाह वायरस केरल के कुछ जिलों तक ही सीमित है। इसलिए घबराने जैसी स्थिति नहीं है। दिल्ली में अभी तक इसके एक भी मामले सामने नहीं आए हैं।

महानिदेशालय का कहना है कि बड़े पैमाने पर यात्राएं स्थगित करने की जरूरत नहीं है। केरल के कुछ जिलों में बीमारी का प्रभाव है। इसलिए उन इलाकों में न जाएं। उन इलाकों में सफर करने से बीमारी होने का खतरा है। इस वायरस का संक्रमण होने पर दिमागी बुखार (इंसेफेलाइटिस), सांस लेने में तकलीफ, गले में कुछ फंसे होने का अनुभव, पेट दर्द, उल्टी, थकान व आंखों की रोशनी कमजोर होने जैसा महसूस होता है।

बचाव के उपाय

-चमगादड़ या पक्षियों द्वारा कुतरे फल (आम, खजूर इत्यादि) न खाएं।

-बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति से संपर्क न करें।

-यदि वायरल बुखार व गले में अकड़ या कुछ फंसा हुआ महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

-छींक आने पर रुमाल का इस्तेमाल करें।

-संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए हाथों की नियमित सफाई जरूरी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप