लंदन, एजेंसी। सात पारियों में 774 रन। यह दिखता है कि ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ ने इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज में किस तरह की जीवटता दिखाई, लेकिन अन्य बल्लेबाजों के फीके प्रदर्शन का नतीजा यह हुआ कि स्मिथ के इस प्रदर्शन के बावजूद ऑस्ट्रेलिया टीम को एशेज सीरीज में 2-2 की बराबरी से मजबूर होना पड़ा।

द ओवल में खेले गए पांचवें टेस्ट की दूसरी पारी में पहली बार स्मिथ सीरीज में 50 रन से नीचे आउट हुए और ऑस्ट्रेलिया ने मैच के चौथे दिन ही घुटने टेकते हुए 135 रनों से मुकाबला गंवा दिया। ऑस्ट्रेलिया का इसी के साथ 18 वर्ष बाद इंग्लैंड की धरती पर एशेज सीरीज जीतने का सपना टूट गया। हालांकि, पिछली सीरीज ऑस्ट्रेलिया के जीतने की वजह से एशेज मेहमानों के पास ही रहेगी।

संभल नहीं सकी कंगारू टीम

ऑस्ट्रेलिया ने भोजनकाल के बाद तीन विकेट पर 68 रन से आगे खेलना शुरू किया। स्टीव स्मिथ ने 18 और मैथ्यू वेड ने अपनी पारी को 10 रन से आगे ब़़ढाया। ऑस्ट्रेलिया ने भोजनकाल के बाद 85 के स्कोर पर स्मिथ के रूप में अपना बेशकीमती विकेट खो दिया। स्मिथ को ब्रॉड ने बेन स्टोक्स के हाथों कैच कराया। स्मिथ इस सीरीज में पहली बार अर्धशतक लगाने से चूक गए। उन्होंने 23 रनों का योगदान दिया। वेड ने मिशेल मार्श (24) के साथ 63 रन जोड़े।

मार्श पांचवें विकेट के रूप में आउट हुए। मार्श छह रन के अपने निजी स्कोर पर ही क्रिस वोक्स की गेंद पर स्लिप में कैच आउट हो गए थे, लेकिन वोक्स की यह गेंद नो बॉल हो गई और मार्श को जीवनदान मिल गया। वेड और पेन ने ऑस्ट्रेलिया को चायकाल तक और कोई झटका नहीं लगने दिया। इस बीच, वेड ने अपने करियर का पांचवां अर्धशतक पूरा किया। चायकाल के बाद कप्तान पेन 21 रन पर पैवेलियन लौट गए।

मैथ्यू वेड ने लगाया शतक

इस बीच वेड ने शतक लगाया, लेकिन 117 रन के स्कोर पर रूट की गेंद पर स्टंप हो गए। कुछ देर बाद पूरी टीम 263 रन पर पैवेलियन लौट गई। ब्रॉड और लीच ने सबसे ज्यादा चार-चार विकेट लिए। इससे पहले, इंग्लैंड से मिले 399 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 29 रन तक अपने दोनों ओपनरों मार्कस हैरिस (9)और डेविड वार्नर (11) का विकेट गंवा दिया।

वार्नर इस सीरीज में पूरी तरह से असफल रहे और उन्होंने 10 पारियों में केवल 95 रन बनाए। ब्रॉड ने इस सीरीज में 10 में से सात बार वार्नर को आउट किया। इसके बाद स्मिथ और मार्नस लाबुशाने (14) के बीच 27 रनों की साझेदारी हुई, लेकिन वे मैच नहीं जिता सके। यही कारण रहा कि 1972 के बाद पहली बार एशेज सीरीज 2-2 से ड्रॉ रही है। 

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप