नई दिल्ली, जेएनएन। अंपायर कुमार धर्मसेना ने वर्ल्ड कप 2019 के फाइनल में इंग्लैंड की टीम को ओवरथ्रो के 5 रन की जगह 6 रन दे दिए थे। फील्ड अंपायर कुमार धर्मसेना ने स्क्वायर लेग अंपायर मरेस इरासमस से बात करने के बाद इंग्लैंड को 6 रन दिए थे। इसका ऑडियो उस दौरान मैच के हर एक अधिकारी ने सुना था। इसी को लेकर कुमार धर्मसेना ने कहा है कि उनसे गलती हुई थी, लेकिन इसके लिए वे शर्मिंदा नहीं है।

पूर्व श्रीलंकाई क्रिकेटर और मौजूदा अनुभवी अंपायर कुमार धर्मसेना ने कहा, "लोगों के लिए टीवी रीप्ले देखने के बाद कमेंट करना आसान है। अब जब मैंने टीवी रीप्ले देखे तो मैं इस बात को स्वीकार करता हूं कि निर्णायक गलती थी। लेकिन, मैदान पर हमारे पास टीवी रीप्ले देखने की सुविधा उपलब्ध नहीं होती और इसलिए मैं इस फैसले पर शर्मिंदा नहीं हूं। यहां तक कि मैंने जिस समय ये निर्णय लिया था उसके लिए ICC ने भी मुझे सराहा था।"

ICC के नियम 19.8 के मुताबिक, थ्रो फेंकने से पहले दोनों बल्लेबाजों को एकदूसरे को क्रॉस करना चाहिए। लेकिन, बेन स्टोक्स और आदिल रशीद के बीच ऐसा कुछ नहीं हुआ था जब मार्टिन गप्टिल ने थ्रो फेंका और गेंद बल्ले से लगकर बाउंड्री के पार चली गई। इस तरह 3 गेंदों में 9 रन चाहिए थे जो 2 गेंदों में 3 रन हो गए। बाद में मुकाबला और फिर सुपरओवर टाई हो गया। लेकिन, बाउंड्री काउंट के आधार पर इंग्लैंड वर्ल्ड कप विजेता घोषित कर दिया गया। 

कुमार धर्मसेना ने आगे कहा, "थर्ड को बिना आउट होने की स्थिति में कोई भी फैसला रेफर करने का प्रावधान नहीं हैं। इसलिए मैंने लेग अंपायर से सिस्टम के जरिए बात की जिसे बाकी अंपायर और मैच रेफरी ने सुना।और, जब वे टीवी रीप्ले की जांच नहीं कर सकते, तो उन सभी ने पुष्टि की कि बल्लेबाजों ने रन पूरा कर लिया है। यही वजह रही कि मैंने अपना निर्णय लिया।"

श्रीलंकाई अंपायर ने बताया कि जब हम फील्ड पर होते हैं तो कई चीजें देखने होती है जब गेंद बल्ले से लगकर जाती है। ऐसा ही इसके केस में भी हुआ। हमने देखा कि दोनों खिलाड़ियों ने पहले एक रन पूरा किया और दूसरे रन के लिए दौड़े। इस समय वे एक दूसरे को क्रास करने के बेहद नजदीक थे तभी मार्टिन गप्टिल ने थ्रो किया और ऐसे में हमने जाना कि दोनों क्रास हो गए थे। यही वजह रही कि इंग्लैंड को 6 रन दे दिए गए।  

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप