कोलंबो, पीटीआइ। श्रीलंका के खेल मंत्री दुलास अलहैपरुमा (Dullas Alahapperuma) ने बुधवार को यहां एक बड़ी जानकारी मीडिया को दी है। खेल मंत्री ने कहा है कि कम से कम तीन श्रीलंकाई क्रिकेटरों की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानी आइसीसी द्वारा मैच फिक्सिंग की जांच की जा रही है। हालांकि, खेल मंत्री अलहैपरुमा ने इस बात की जानकारी नहीं दी है कि खिलाड़ी देश के लिए खेल चुके हैं या फिर खेल रहे हैं।

खेल मंत्री ने कहा है, "हमें यह देखकर खेद है कि खेल अनुशासन और इसके चरित्र में कमी आई है।" हालांकि, श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने ये साफ कर दिया है कि मौजूदा समय में देश के लिए खेल रहे किसी भी खिलाड़ी पर आइसीसी की जांच मैच फिक्सिंग के लिए नहीं की जा रही है। श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने भी खेल मंत्री के इस खुलासे के बाद अपना आधिकारिक बयान जारी कर दिया है और कहा है कि कोई भी मौजूदा खिलाड़ी इसमें शामिल नहीं है।

श्रीलंका क्रिकेट (SLC) ने कहा है, "एसएलसी का दृढ़ता से मानना है कि माननीय खेल मंत्री ने वास्तव में जो उल्लेख किया है वह तीन पूर्व श्रीलंका के खिलाड़ियों के खिलाफ आइसीसी की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई द्वारा शुरू की गई जांच के बारे में था न कि वर्तमान राष्ट्रीय खिलाड़ियों के खिलाफ जांच की जा रही है।" तेज गेंदबाज शेहान मदुशनका पर ड्रग चार्ज पर टिप्पणी करते हुए, खेल मंत्री अलहैपरुमा ने कहा कि "यह दुखद था और देश ने उन पर उच्च उम्मीदें रखी थीं।"

मदुशनका को पिछले सप्ताह श्रीलंकाई पुलिस ने हेरोइन रखने के आरोप में हिरासत में लिया था। इसके बाद, श्रीलंका क्रिकेट (SLC) ने उनका अनुबंध निलंबित कर दिया था। खेल मंत्री ने कहा कि सरकार जल्द ही स्कूल स्तर पर क्रिकेट के गिरते स्तर पर ध्यान केंद्रित करेगी। यह पता चला है कि स्कूल अब गुणवत्ता वाले खिलाड़ियों का उत्पादन नहीं कर रहे हैं। प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के साथ हाल ही में हुई बैठक में महेला जयवर्धने, कुमार संगकारा और सनथ जयसूर्या जैसे दिग्गजों ने जमीनी स्तर पर क्रिकेट को फिर से जीवित करने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला था।

Edited By: Vikash Gaur