जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। एक समय टी-20 विश्व कप से बाहर होने की कगार पर खड़ी पाकिस्तानी टीम ने पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड को सात विकेट से हराकर तीसरी बार फाइनल मुकाबले में जगह बनाई। ग्रुप चरण में पहले भारत से और फिर जिंबाब्वे के हाथों अप्रत्याशित हार ने पाकिस्तानी प्रशंसकों का दिल तोड़ दिया था। माना जा रहा था कि अब पाकिस्तानी टीम सुपर-12 से आगे नहीं बढ़ पाएगी, लेकिन टीम को किस्मत का साथ मिला।

रविवार को नीदरलैंड्स ने दक्षिण अफ्रीका को हराकर विश्व कप का सबसे बड़ा उलटफेर किया। दक्षिण अफ्रीका की हार ने पाकिस्तानी टीम और उसके प्रशसंकों के चेहरे खिला दिए। अगले मुकाबले में पाकिस्तान ने बांग्लादेश को हराकर अंतिम चार में जगह बनाकर असंभव को संभव बना दिया।

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर बुधवार को खेले गए सेमीफाइनल में उसका सामना सुपर-12 के ग्रुप-1 में शीर्ष पर रहने वाले न्यूजीलैंड से था। इससे पहले, दोनों टीमें दो बार वनडे विश्व कप और एक बार टी-20 विश्व कप सेमीफाइनल में भिड़ चुकी थीं और तीनों ही मौकों पर न्यूजीलैंड को शिकस्त झेलनी पड़ी थी। सिडनी के मैदान पर बाबर आजम की टीम ने पहले गेंदबाजी और फिर बल्लेबाजी में शानदार प्रदर्शन करते हुए न्यूजीलैंड का पहली टी-20 विश्व कप ट्राफी उठाने का सपना एक बार फिर चकनाचूर कर दिया।

पाकिस्तान ने दर्ज किया एक अनोखा रिकॅार्ड

बता दें कि इस जीत के साथ टी20I में पाकिस्तान ने एक खास रिकॅार्ड अपने नाम दर्ज कर लिया है। टी20I में किसी भी एक विरोधी टीम के खिलाफ सबसे ज्यादा बार मैच जीतने का रिकॅार्ड, पाकिस्तान ने अपने नाम दर्ज कर लिया है। पाकिस्तान ने टी20I में 18 बार न्यूजीलैंड को मात दी है। सेमीफाइनल मुकाबले में जीत के साथ ही पाकिस्तान ने किसी एक विरोधी टीम को सबसे ज्यादा बार हराने का रिकॅार्ड अपने नाम दर्ज कर लिया। बता दें कि पाकिस्तान के पहले यह रिकॅार्ड भारत के नाम था। भारत ने टी20I में 17 बार वेस्टइंडीज को हराया है।

पाकिस्तान बनाम न्यूजीलैंड – पाकिस्तान 18 बार जीता

भारत बनाम वेस्टइंडीज – भारत 17 बार जीता

भारत बनाम श्रीलंका – भारत 17 बार जीता

इंग्लैंड बनाम पाकिस्तान – इंग्लैंड 17 बार जीता

Edited By: Piyush Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट