नई दिल्ली, पीटीआइ। भारतीय टीम के महान बल्लेबाज और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे भारत के साथ खड़े हो गए हैं। कोरोना वायरस जैसी महामारी से लड़ने के लिए सचिन तेंदुलकर आगे आए हैं और उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार को बड़ी रकम दान में दी है, जिससे कि इस महामारी से संक्रमित लोगों का इलाज हो सके।

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने शुक्रवार को कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए 50 लाख रुपये दान करने का फैसला किया है, जिसने भारत में अब तक 17 लोगों की जान निगल ली है। दुनियाभर में ये आंकड़ा 24 हजार के पार कर गया है। सचिन तेंदुलकर कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अब तक के सबसे ज्यादा ज्यादा डोनेशन देने वाले भारत के पहले खिलाड़ी बन गए हैं, जिससे कि मेडिकल उपकरण खरीदे जा सकें।

राज्य और केंद्र सरकार को दिए 25-25 लाख

एक सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर पीटीआइ को बताया, "सचिन तेंदुलकर ने 25-25 लाख रुपये प्राइम मिनिस्टर रिलीफ फंड और चीफ मिनिस्टर रिलीफ फंड में दान देने का निर्णय लिया है, जिससे कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा सके। यह उनका निर्णय था कि वे राज्य और केंद्र सरकार दोनों को मदद करेंगे।" बता दें कि महाराष्ट्र भारत में कोरोना वायरस का केंद्र बना हुआ है, जहां सबसे ज्यादा मरीज सामने आए हैं।

बता दें कि सचिन तेंदुलकर तमाम चैरिटी वर्क में हिस्सा लेते हैं और वे बिना किसी को बताएं लोगों की मदद करते हैं। सचिन तेंदुलकर के अलावा क्रिकेटरों की बात करें तो पठान भाईयों(इरफान पठान और युसुफ पठान) ने 4000 मास्क पुलिस और हेल्थ डिपार्टमेंट में बांटे हैं, जबकि महेंद्र सिंह धौनी ने पुणे के एक एनजीओ को एक लाख रुपये दिहाड़ी मजदूरों के भोजन के लिए दिए हैं। पूर्व क्रिकेटर और मौजूदा विधायक लक्ष्मी रतन शुक्ला ने अपनी सैलरी और बीसीसीआइ के पेंशन को सीएम रिलीफ फंड में देने का फैसला किया है।

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस