नई दिल्ली, जागरण स्पेशल। India vs Pakistan: 16 जून को मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर वर्ल्ड कप 2019 का महामुकाबला भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया। इस मुकाबले में टीम इंडिया को एकतरफा जीत मिली। इस जीत पर टीम इंडिया, पूरा देश और करोड़ों फैंस गर्व महसूस कर रहे हैं। लेकिन, ठीक आज से दो साल पहले भारत के साथ पाकिस्तान की टीम ने ने वो सलूक किया था जिसे विराट कोहली एंड कंपनी के साथ भारतीय टीम के करोड़ों फैंस कभी भी नहीं भूल पाएंगे।

दरअसल, 18 जून, 2017 को आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल इंग्लैंड में ही खेला गया। लंदन के केनिंग्टन ओवल में खेले गए आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर गेंदबाजी करने का फैसला किया। विराट कोहली का ये फैसला सही भी साबित हो जाता लेकिन जसप्रीत बुमराह की एक नो बॉल ने काम खराब कर दिया। 

उधर, पाकिस्तान की टीम ने पहले बिना विकेट खोए 100, फिर कुछ देर में 200 और फिर 300 से ज्यादा रन बनाए दिए। पाकिस्तान की ओर से सलामी बल्लेबाज फखर जमां ने 114 रन की पारी खेली। फखर जमां के अलावा मोहम्मद हफीज ने नाबाद 57 और अजहर अली ने 59 रन की पारी खेली। साथ ही साथ बाबर आजम ने 46 रन बनाए। इसी के दम पर पाकिस्तान ने भारत के सामने 50 ओवर में 4 विकेट खोकर 338 रन बना डाले। 

पाकिस्तान की ओर से मिले 339 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम की खराब शुरुआत रही। रोहित शर्मा अपना और भारतीय टीम का खाता भी नहीं खोल पाए और मोहम्मद आमिर की गेंद पर उनका शिकार हो गए। ऐसे में जल्द ही भारतीय टीम के नए कप्तान विराट कोहली को क्रीज पर आना पड़ा। अभी टीम इंडिया के स्कोर ने दहाई का आंकड़ा भी नहीं छूआ था कि कप्तान कोहली भी 5 रन के निजी स्कोर पर मोहम्मद आमिर की गेंद पर शादाब खान के हाथों कैच आउट हुए।

विराट के बाद क्रीज पर सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और युवराज सिंह थे। लेकिन, धवन भी टीम इंडिया के 33 रन के स्कोर पर मोहम्मद आमिर की एक बाहर निकलती गेंद पर विकेट के पीछे सरफराज अहमद के हाथों कैच आउट हो गए। इसके बाद युवराज 22 रन बनाकर, धौनी 4 रन बनाकर, केदार जाधव 9 रन बनाकर चलते बने। इसके बाद एक हार्दिक पांड्या ने तूफानी पारी खेलकर टीम इंडिया के बुझते दिए में तेल डालने का काम किया। 

हार्दिक पांड्या  ने लगातार तीन छक्के और कुछ उम्दा शॉट खेलकर पहले फिफ्टी पूरी की। लेकिन 43 गेंदों में 76 रन बनाकर वे रवींद्र जड़ेजा के साथ आपसी तालमेल की कमी की वजह से रन आउट हो गए। इस तरह भारत की आखिरी उम्मीद पवेलियन लौट गई। सातवें विकेट के रूप में पांड्या का विकेट 152 रन पर गिरा। इसके बाद टीम के स्कोर में 6 रन जुड़े थे कि भारतीय टीम 158 रन पर ढेर हो गई और पाकिस्तान की टीम का खुशी का ठिकाना ना रहा।  

इस तरह टीम इंडिया आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का फाइनल मैच 180 रन से हार गई। आईसीसी के टूर्नामेंट में किसी भी टीम की रनों के मामले में ये सबसे बड़ी हार थी। इसके अलावा पाकिस्तान की भारत पर रनों के अंतर से ये सबसे बड़ी जीत थी। हालांकि, पाकिस्तान को भारत ने इसी टूर्नामेंट के पहले मैच में 124 रन से मात दी थी। लेकिन, किसी भी टूर्नामेंट का फाइनल जीतकर ट्रॉफी उठना एक सुखद अनुभव होता है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप