नई दिल्ली, जेएनएन। सचिन तेंदुलकर ने जब वनडे क्रिकेट खेलना छोड़ा था तब वो इस प्रारूप में सबसे टॉप पर थे। वनडे में 49 शतक, सबसे ज्यादा मैच, सबसे ज्यादा रन और ना जाने कितने रिकॉर्ड्स। वनडे में सचिन ने जो उपलब्धियां हासिल की थी वो अपने आप में कमाल था। अब वनडे में विराट कोहली शतक के मामले में सचिन की बराबरी करने से सिर्फ 6 शतक ही पीछे हैं। वनडे में विराट का रिकॉर्ड भी जबरदस्त है और कई मामलों में वो सचिन से भी आगे निकल चुके हैं। 

वहीं बात रोहित शर्मा के बारे में की जाए तो उजले गेंद के क्रिकेट में उनका अपना अलग ही जलवा है। तीन-तीन दोहरे शतक। वनडे का सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर भी उन्हीं के नाम पर है। एक वर्ल्ड कप में 5 शतक लगाने का कमाल भी रोहित ने ही किया था और उनके नाम पर 29 शतक दर्ज हैं जबकि वो 10,000 रन के करीब भी पहुंच चुके हैं। यानी सचिन, विराट व रोहित तीनों ही कमाल के हैं और इन तीनों का एक अलग मुकाम है और तीनों ही भारत के महान खिलाड़ियों में शुमार होते हैं। 

वहीं टीम इंडिया के पूर्व ओपनर बल्लेबाज वसीम जाफर से जब पूछा गया कि सफेद गेंद के क्रिकेट में भारत में सचिन, रोहित व विराट में से कौन बेस्ट है तो उन्होंने टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का चयन किया। वहीं भारत के लिए 31 टेस्ट खेलने वाले वसीम जाफर से फेवरेट कप्तान को लेकर भी सवाल पूछा गया तो उन्होंने सौरव गांगुली को अपने पसंदीदा कप्तान बताया। उन्होंने कहा कि गांगुली ने साल 2000 के बाद टीम इंडिया को खड़ा किया। जाफर ने कहा कि गांगुली की पहचान ऐसे कप्तान के तौर पर होती थी जो खिलाड़ियों का साथ देते थे और उन्हें खुद को साबित करने का भरपूर मौका भी देते थे। 

वसीम जाफऱ ने कहा कि सौरव गांगुली ने वीरेंद्र सहवाग को ओपनिंग का मौका दिया और फिर सहवाग किसी पहचान के मोहताज नहीं रहे। उन्होंने युवराज सिंह, जहीर खान और हरभजन सिंह जैसे खिलाड़ियो को मौका दिया और टीम में लेकर भी आए। ये सभी खिलाड़ी भारतीय क्रिकेट टीम के अहम खिलाड़ी बने।  

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस