नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। श्रेयस अय्यर ने भारत के लिए अपने डेब्यू टेस्ट मैच में ही शतक लगाया और भारत की तरफ से अपने पदार्पण टेस्ट मैच में शतक लगाने वाले 16वें खिलाड़ी बने। श्रेयस अय्यर की इस पारी की सबने जमकर तारीफ की। कपिल देव ने यहां तक कहा कि डेब्यू टेस्ट में अगर भारतीय बल्लेबाज शतक लगा रहे हैं तो इसका मतलब ये है कि क्रिकेट सही दिशा में जा रहा है। इन सारी बातों के बीच टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज वसीम जाफर ने कहा कि श्रेयस अय्यर की असली परीक्षा साउथ अफ्रीका में होगी क्योंकि वहां पर उन्हें शार्ट पिच गेंदों का सामना करना होगा। 

वसीम जाफर ने ईएसपीएन क्रिकइंफो पर बात करते हुए कहा कि श्रेयस अय्यर के लिए एकमात्र चुनौती वो गेंद होगी जो बाउंस होकर आएगी। कभी-कभी मुझे ऐसा लगता है कि वनडे में भी गेंदबाज उन्हें वहीं पर निशाना बनाना चाहते हैं और टेस्ट क्रिकेट में तो उन पर छोटी गेंदों की बौछार होने वाली है। जब वो साउथ अफ्रीका दौरे पर जाएंगे तब मुझे पूरा यकीन है कि उस टीम के गेंदबाज उनकी पूरी तरह से परीक्षा लेंगे। श्रेयस अय्यर की असली  परीक्षा वहीं होगी क्योंकि वहां पर 140-145 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंद आएगी और उनके लिए इस तरह की गेंदों का सामना करना कठिन होगा। 

वसीम जाफर ने कहा कि श्रेयस को इस बात को समझने की जरूरत है कि किसी ना किसी जगह या फिर हर स्तर पर हर बार वो हर तरह की गेंदबाजी का सामना नहीं कर सकते हैं। वो शानदार प्लेयर हैं, लेकिन इस कमी को उन्हें ठीक करने की कोशिश करनी चाहिए। आपको बता दें कि श्रेयस अय्यर ने कानपुर टेस्ट मैच की पहली पारी में 105 रन बनाए थे और उनकी पारी की वजह से ही भारत ने पहली इनिंग में 345 रन का स्कोर खड़ा किया। 

Edited By: Sanjay Savern