नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। पूर्व भारतीय क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने कहा कि अगर विराट कोहली आफ स्टंप के बाहर गेंद नहीं छोड़ते हैं तो वे बल्ले से संघर्ष करते रहेंगे। इंग्लैंड के खिलाफ चल रही सीरीज में कोहली कई बार बाहर की गेंद को खेलते हुए आउट हुए हैं, जिसे उन्हें छोड़ देना चाहिए। जेम्स एंडरसन और ओली राबिनसन के खिलाफ उनको कई बार परेशानी हुई है। विराट कोहली लंबे समय से शतक नहीं जड़ पाए हैं।

मांजरेकर ने कहा कि विराट कोहली ने 2018 में जिस तरह से वापसी की, उससे उन्हें सीख लेनी चाहिए। क्रिकेट कमेंटेटर ने कहा कि कोहली के फ्रंट-फुट खेल ने औसत गेंदबाजों को विश्व-बीटर की तरह बना दिया है। सीरीज में अब तक तीन टेस्ट में विराट ने 24.80 की औसत से 124 रन बनाए हैं, जिसमें एक अर्धशतक ही शामिल है। विराट कोहली के लिए 2014 का इंग्लैंड दौरा बहुत ही खराब रहा था।

पूर्व सलामी बल्लेबाज संजय मांजरेकर ने एचटी से बात करते हुए कहा, "विराट कोहली वर्तमान में आफ साइड के अपने मुद्दे से जूझ रहे हैं, 2014 विराट को परेशान करने के लिए वापस आ रहा है और अगर वह 2018 की तरह गेंदों को नहीं छोड़ते हैं, तो उनके पूरी श्रृंखला में परेशानी होने की संभावना है। या वह फ्रंट फुट पर जाने के लिए इतना जुनूनी हो जाएं कि जिससे उनका जीवन आसान हो और गेंदबाजों को और अधिक कठिनाइए हो।"

इससे पहले इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने कहा था कि विराट को नई गेंद का सामना करने के लिए संघर्ष करना पड़ा है। हुसैन ने कहा कि कोहली को थोड़ी 'तकनीकी समस्या' है और उन्हें आफ स्टंप के बाहर गेंद छोड़नी चाहिए। डेली मेल को लिखे अपने कालम में हुसैन ने कहा, "वह (कोहली) तीसरे दिन एक स्पैल से गुजरे, बेशक एक पुरानी गेंद के खिलाफ, जहां वह इसे अच्छी तरह से छोड़ रहा थे, लेकिन नई गेंद को छोड़ना मुश्किल है, क्योंकि यह बाद में स्विंग करती है।"

Edited By: Vikash Gaur