नई दिल्ली, प्रेट्र। Rishabh Pant backed by Yuvraj Singh: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने रिषभ पंत (Rishabh Pant) को लेकर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) व कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को बड़ी नसीहत दे डाली। अपनी खराब बल्लेबाजी फॉर्म से जूझ रहे भारतीय विकेटकीपर-बल्लेबाज रिषभ पंत की इन दिनों खूब बुराई की जा रही है। रिषभ पंत पर लगातार हो रहे हमले के बाद युवराज सिंह ने उनका पक्ष लेते हुए कहा है कि इस युवा खिलाड़ी को टीम के कप्तान विराट कोहली के सपोर्ट और मार्गदर्शन की जरूरत है। 

युवराज ने कहा कि रिषभ पंत को लेकर जिस तरह की बातें की जा रही है वो ये डिजर्व नहीं करते हैं और इन सबसे बाहर आने के लिए विराट कोहली व टीम के कोच रविशास्त्री के सपोर्ट की जरूरत है। रिषभ पंत को टीम मैनेजमेंट की तरफ से काफी मौके दिए गए लेकिन वो अब तक इसे भुनाने में कामयाब नहीं रहे हैं और लगातार खराब शॉट खेलकर विरोधी टीम को अपना विकेट तोहफे के तौर पर दे रहे हैं। युवी ने कहा कि मुझे नहीं पता कि उन्हें क्या हुआ है, लेकिन वो लगातार आलोचना के शिकार हो रहे हैं जिसकी शायद जरूरत नहीं है। 

युवराज सिंह ने रिषभ पंत को लेकर टीम मैनेजमेंट से भी अपनी बात कही और कहा कि अगर आप रिषभ पर दवाब बनाएंगे तो वो अपना बेस्ट नहीं दे पाएंगे। हालांकि उन्हें कई मौके मिले हैं, लेकिन उन्हें लगातार मौके देने के बाद ही नतीजे सामने आएंगे। उन्होंने ये भी कहा कि महेंद्र सिंह धौनी जैसे खिलाड़ी एक दिन में सामने नहीं आते। इसके लिए कई वर्ष लग जाते हैं। अभी टी20 विश्व कप के लिए एक वर्ष का वक्त बचा है ऐसे में टीम मैनेजमेंट को उन पर भरोसा जताते हुए और मौके देने चाहिए। 

युवराज सिंह ने कहा कि रिषभ पंत ने विदेशी धरती पर दो शतक लगाए हैं। उनमें काफी क्षमता है और वो बेहद टैलेंटेड हैं। अब उनका उत्साह बढ़ाने की जरूरत है। उन्हें ये बताने की जरूरत है कि उन्हें क्या करना है। पंत को धौनी के विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है ऐसे में अगर आपको लगता है कि वो सबसे प्रतिभाशाली विकेटकीपर-बल्लेबाज हैं तो हमें उन्हें ज्यादा से ज्यादा मौके देने होंगे। यही नहीं उनसे घरेलू क्रिकेट में खेलने के लिए भी कहा जाए। उनका विश्वास बढ़ाने की जरूरत है, उनकी आलोचना करके हम उनसे बेस्ट प्रदर्शन नहीं करवा सकते। 

युवी ने कहा कि मुझे हमेशा ऐसा लगा कि अगर कोई भारतीय खिलाड़ी खराब प्रदर्शन करता है तो कोई उसके मानसिक कंडीशन के बारे में जानने की कोशिश नहीं करता है। कोई भी उस खिलाड़ी की मानसिक हालात के बारे में जानने की बात नहीं करता है। ऐसे में जरूरत है कि हम उस खिलाड़ी के पास जाएं और उससे पूछें कि खेल को लेकर वो क्या सोचता है और किस तरह से उसके खेल को और बेहतर किया जा सकता है। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप