नई दिल्ली, आईएएनएस। कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से पूरी दुनिया थम सी गई है। इस वक्त विश्व कप लगभग हर शहर में लॉकडाउन कि स्थिति है। भारत में भी इस संक्रमण पर नियंत्रण करने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया गया है। ऐसे में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने भारत सरकार के साथ भारत के पुराने मैचों की फुटेज शेयर किया है जिससे कि लोग पुरानी यादों को एक बार फिर से ताजा कर सके।

मैजूदा स्थिति में इन फुटेज के बदले भारी कीमत मिल सकती है लेकिन बीसीसीआई ने डीडी स्पोर्ट्स को यह बिना पैसों के देने का फैसला लिया है। आईएएनएस से बात करते हुए बीसीसीआई की तरफ से बताया गया कि ऐसे में जबकि सरकार कोरोना जैसा महामारी से निपटने के लिए इतनी मेहनत कर रही है तो उनसे कोई फैसे लेने का सवाल ही नहीं उठता है। यह सरकार द्वारा किए जाए रहे कार्यों की सराहना करने के लिए एक छोटा सा प्रयास है।

उन्होंने बताया, "इन फुटेज के बदले में किसी भी तरह से कोई पैसे लेने का तो सवाल ही नहीं उठता है। यह व्यवस्था लॉकडाउन खत्म होने वक्त तक के लिए की गई है और यह बहुत छोटी सी चीज है जो हम इस महामारी के निपटने के लिए कर सकते हैं।" 

"यह विचार लोगों को घर के अंदर रोके रखने के लिए किया गया है और अगर यह क्रिकेट प्रेमियों को लॉकडाउन के समय में घर पर रहने में मदद पहुंचाता है तो क्यों नहीं। देश के लिए किसी भी तरह के काम में योगदान करके हमें हमेशा ही खुशी होगी।" 

इन फुटेज की क्या कीमत हो सकती है यह पूछे जाने पर उन्होंने कहा इसका फैसला समय की मांग के हिसाब से किया जाता है। "देखिए, यह आमतौर पर बहुत ही ज्यादा कीमती हैं, लेकिन इसको कोई निश्चित मूल्य नहीं होता है जैसे इसकी मांग होती है खासकर मौकों के हिसाब मुताबिक। जैसे अगर उदाहरण के तौर पर देखे तो महेंद्र सिंह धौनी के 2011 विश्व कप फाइनल में लगाए गए छक्के की कीमत बाकी सभी फुटेज से मुकाबले हमेशा ही ज्यादा कीमती होती है।"

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस