नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। श्रीलंका में भारतीय क्रिकेट टीम के सामने इस वक्त एक बड़ी चुनौती है। अपने मुख्य खिलाड़ियों को बाहर बिठाने पर मजबूर हुई टीम इंडिया को नए कम अनुभवी खिलाड़ियों के साथ तीन मैचों की सीरीज के आखिरी मैच में उतरना है। एक साथ 8 खिलाड़ियों को खोने के बाद दूसरे मैच में भारत का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। अब फाइनल टी20 में भारत को हर हाल में अपने इन्ही खिलाड़ियों से बेहतर खेल निकालकर सीरीज जीतना होगा।

टी20 सीरीज का दूसरा मुकाबला जीतकर श्रीलंका ने 1-1 की बराबरी हासिल कर ली। अब अगर आखिरी मैच में भी वह जीत दर्ज करने में कामयाब हुई तो भारत सीरीज गंवा देगा। टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन में दूसरे टी20 में चार नए खिलाड़ियों को मौका दिया गया। इंडियन प्रीमियर लीग और घरेलू क्रिकेट में खुद को साबित करने वाले नितीश राणा, देवदत्त पडीक्कल, रितुराज गायकवाड और चेतन सकारिया को डेब्यू का मौका मिला। ये सभी खिलाड़ी अपने पहले मैच में कुछ खास नहीं कर पाए। अब अपने दूसरे मैच जो सीरीज का निर्णायक मुकाबला भी होगा इसमें सभी को सर्वश्रेष्ठ खेल दिखाना होगा।

बल्लेबाजी में धवन और संजू के पास अनुभव

कप्तान शिखर धवन को आगे बढ़कर जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठानी होगी। दूसरे टी20 में उन्होंने अच्छी पारी खेली लेकिन विकेट बचाकर नहीं रख पाए। वहीं संजू सैमसन भी बड़ी पारी खेलने मे नाकाम रहे। अगर भारत को एक अच्छा स्कोर खड़ा करना है या फिर लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत हासिल करना है तो इन दोनों ही खिलाड़ियों को अपना अनुभव काम में लाना होगा।

गेंदबाजी में कुलदीप और भुवनेश्वर अनुभवी

श्रीलंका दौरे पर उप कप्तान बनाए गए गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार गेंदबाजी टीम के लीडर हैं। इस गेंदबाज के पास सबसे ज्यादा अनुभव है और इस फाइनल मैच में अगर टीम को जीत चाहिए तो भुवी की सटीक गेंदबाजी सबसे ज्यादा काम आएगी। कुलदीप ने दूसरे टी20 में काफी अच्छी गेंदबाजी की थी। अपने अनुभव का पूरा इस्तेमाल करते हुए इस चाइनामैन गेंदबाज को निर्णायक मुकाबले में भी पूरा दम लगाना होगा। सीरीज जीतना है तो टीम के युवाओं में इन दोनों को अपने प्रदर्शन से उत्साह भरना होगा।  

Edited By: Viplove Kumar