नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के आखिरी मुकाबले में पांचवें दिन फैसला आया। इंग्लैंड ने जो रूट और जानी बेयरस्टो की धमाकेदार शतकीय पारी के दम पर 378 रन का रिकार्ड लक्ष्य हासिल कर जीत दर्ज किया। इस जीत के बाद इंग्लिश कप्तान बेन स्टोक्स ने बयान देते हुए भारतीय गेंदबाजी को कमतर और अपने टीम की बल्लेबाजी को बेहतर बताने की कोशिश की।

इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान बेन स्टोक्स ने मैच का प्रसारण कर रहे चैनल से कहा, मुझे इस बात को पता नहीं कि हमारी सीमा कहां तक है। मेरे अंदर को ऐसा भी था की एक वक्त यह भी चाहता था कि भारतीय टीम इस मैच में 450 रन से स्कोर के पार पहुंचे, जिससे कि हमें इस बात का पता चल सके कि हम इस लक्ष्य तक पहुंच पाने में सक्षम हैं भी या नहीं।

भारतीय टीम ने बर्मिघम टेस्ट की पहली पारी में रिषभ पंत और रवींद्र जडेजा के शतक के दम पर 416 रन बनाए थे। जवाब में इंग्लैंड की पहली पारी को 284 रन पर ढेर कर 132 रन की बढ़त बनाने में कामयाबी हासिल की थी। दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाज नहीं चल पाए और 245 रन पर ही पूरी टीम आलराउट हो गई। 378 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम ने 3 विकेट गंवाकर इसे हासिल कर लिया। 

स्टोक्स ने कहा, मैंने कल (बर्मिंघम टेस्ट के चौथे दिन) ही दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा था। ये देखिए कि इस वक्त टीम हमें कैसे देख रही है, ये जो तीसरी पारी है वही अब चौथी पारी जैसी हो गई है, क्योंकि उनका ध्यान अब इस चीज पर होगा कि हम आगे कैसा खेलने वाले हैं, और उनको इस बात को लेकर चिंता है। तो एक टीम के तौर पर इस स्थिति में होना, तो पारी को खत्म करने से पहले इस तरह से डर में होना बहुत ही अविश्वनीय स्थिति है। टीम को यह नहीं पता होता है कि तीसरी पारी में कैसे खेलना है, वो तब जबकि आपने बढ़त हासिल कर रखी हो।

Edited By: Viplove Kumar