दिग्गज बल्लेबाज, महेला जयवर्धने, कुमरा संगकारा, तिलकरत्ने दिलशान के संन्यास के बाद श्रीलंका की क्रिकेट टीम कमजोर पड़ गई थी। यह टीम फिर से एक बार खड़ी हो रही है और इस टीम को खड़ा करने का जिम्मा पूर्व कप्तान और बल्लेबाज एंजेलो मैथ्यूज के ऊपर है। वह उन तीनों अनुभवी बल्लेबाजों के साथ खेले हैं और अब इस युवा टीम के साथ भी खेल रहे हैं। श्रीलंका ने दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट जीता तो वनडे विश्व कप 2019 में टीम नॉकआउट में नहीं पहुंच पाई और छठे स्थान पर रही। न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने घर में श्रीलंकाई टीम ने पहला टेस्ट जीता लेकिन दूसरा टेस्ट हारने के कारण उसे सीरीज के ड्रॉ होने से ही संतोष करना पड़ा। उनका मानना है कि इस समय विश्व क्रिकेट में भारत और श्रीलंका की टीमें अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। श्रीलंका के प्रदर्शन व अन्य मुद्दों को लेकर अभिषेक त्रिपाठी ने पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज से खास बातचीत की। पेश हैं मुख्य अंश :

-श्रीलंका के टेस्ट चैंपियनशिप में न्यूजीलैंड के खिलाफ प्रदर्शन को कैसे देखते हैं? श्रीलंका का क्रिकेट किस ओर जा रहा है?

-इसमें कोई शक नहीं है कि टेस्ट चैंपियनशिप से क्रिकेट के इस प्रारूप में एक जोश आ गया है। मुझे लगता है कि श्रीलंकाई टीम के सभी खिलाड़ी पिछले कुछ समय में शीर्ष टीमों के खिलाफ खेले हैं। इस चैंपियनशिप में लंबा सफर बचा है। हमने पहले टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन किया। न्यूजीलैंड की टीम शानदार क्रिकेट खेलती है और उनके खिलाफ खेलना में दबाव तो रहता ही है। पहले टेस्ट की चौथी पारी में दिमुथ और थिरिमाने की साझेदारी ने लक्ष्य को आसान बना दिया। चौथी पारी में ऐसी साझेदारी रास्ता आसान कर देती है। मुझे लगता है कि सभी खिलाडि़यों ने अच्छा किया और अपना-अपना योगदान दिया। यह सीरीज हमारे लिए महत्वपूर्ण थी। अगर हम उसे जीतते तो बेहतर रहता।

- न्यूजीलैंड सीमित प्रारूपों में एक अच्छी टीम है। क्या आपको लगता है कि यह टीम टेस्ट में कुछ अलग है?

-मुझे ऐसा नहीं लगता। कोई भी प्रारूप हो, न्यूजीलैंड की टीम ने पिछले कुछ वर्षो में खुद को बेहतर तरीके से तैयार किया है। टेस्ट, वनडे और टी-20 अलग-अलग प्रारूप हैं और इसमें घर या बाहर के मैदानों पर बहुत कुछ मैच के रिजल्ट निर्भर होते हैं। न्यूजीलैंड ने घर और घर से बाहर अच्छा क्रिकेट खेला है। उन्होंने तीनों प्रारूप में एक टीम के रूप में शानदार प्रदर्शन किया है। वे विश्व कप के उपविजेता हैं और वे यह भी जानते हैं कि टेस्ट क्रिकेट कैसे खेलना है।

-जयसूर्या, जयवर्धने, संगकारा, दिलशान के संन्यास के जाने के बाद श्रीलंकाई टीम में पहले जैसी बात नहीं रही है। उनकी जगह क्यों नहीं भर पाई? कहां कमी रह गई?

-निश्चित तौर पर बड़े खिलाडि़यों के संन्यास से फर्क तो पड़ता है। जयसूर्या ने पहले संन्यास लिया। उसके बाद जयवर्धने, संगकारा और दिलशान ने क्रिकेट से विदा ली। इन तीनों ने कई साल तक टीम के साथ समय बिताया और खेले। सीनियर खिलाड़ी होने के नाते अब टीम को खड़ा करने की मेरी जिम्मेदारी बनती है। उन तीनों की जगह को भरना आसान नहीं है। हमें जो भी मौके मिलेंगे तो हमारी कोशिश अच्छा करने की रहेगी। मुझे उम्मीद है कि हम ऐसा करने में सफल होंगे।

-दिमुथ करुणारत्ने की कप्तानी में खेलना कैसा लग रहा है और आपका क्या अनुभव रहा?

-शानदार, मुझे लगता है कि अभी सब अच्छा चल रहा है। हमने दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज फिर वनडे विश्व कप और अब न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज उनके नेतृत्व में खेली। वह हर खिलाड़ी को आजादी के साथ खेलने देते हैं और हर खिलाड़ी का हौसला भी बढ़ाते हैं इससे खिलाडि़यों को अपना शानदार प्रदर्शन करने में मदद मिलती है। टीम में हर कोई उनका सम्मान करता है। मुझे लगता है कि वह अपना काम बखूबी निभा रहा है। उनका भविष्य अच्छा है और हर कोई उसकी मदद करता है। उन्होंने टीम को अच्छे से एकजुट किया है।

- अब आपने गेंदबाजी करना लगभग छोड़ दिया है, इसके पीछे क्या कारण है?

- मुझे लगता है कि इसके पीछे कोई मुख्य कारण नहीं है। पिछले कुछ वर्षो में मुझे चोटें लगती रही और फिर चयनकर्ताओं ने मुझसे कहा कि टीम को मेरी बल्लेबाजी की जरूरत है इसलिए तुम एक बल्लेबाज के तौर पर खेलो लेकिन मैं फिर से गेंदबाजी करने की कोशिश करूंगा और टी-20 से शुरुआत करने के बारे में सोच रहा हूं। मैं अपनी गेंदबाजी को बहुत याद करता हूं्र और जल्दी से जल्दी करने की कोशिश करूंगा। मैं अपनी टीम में एक ऑलराउंडर के तौर पर योगदान देना चाहता हूं। उम्मीद करता हूं कि वनडे में भी गेंदबाजी करूंगा।

- आप दो या तीन कप्तानों के साथ खेले हैं, आपका पसंदीदा कौन है?

-किसी एक के बारे में कहना मुश्किल है। महेला, दिलशान, संगकारा सभी अच्छे कप्तान रहे हैं। वे सभी अच्छे इंसान हैं। वे सभी अपने करियर में सफल हुए हैं। तो आप किसी एक व्यक्ति के बारे में नहीं बोल सकते।

- आपको क्या लगता है तेज गेंदबाज होने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज क्या है। क्या लंबाई महत्वपूर्ण है। आप खुद छह फुट के हैं?

-मुझे लगता है कि लंबाई ठीक होनी चाहिए लेकिन इसका ज्यादा फर्क नहीं पड़ता क्योंकि आपने खुद देखा होगा कि लाहिरू कुमारा 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकता है लेकिन वह इतना लंबा नहीं है। आपको अपनी गेंदबाजी में तेजी, समय और लय लानी होती है। अगर ये चीजें होंगी तोलंबाई ज्यादा महत्व नहीं रखती। मुझे नहीं लगता कि आपको गेंद तेजी से फेंकने के लिए लंबाई को कोई कारण मानना चाहिए।

- हाल ही में एशेज सीरीज में जोफ्रा आर्चर ने स्टीव स्मिथ को चोटिल किया था। आपको क्या लगता है कि आजकल क्रिकेट बहुत खतरनाक हो गया है?

-हो सकता है। 95 प्रतिशत गेंदबाज यह कभी नहीं सोचता कि उसे बल्लेबाज को चोटिल करना है। बल्लेबाज को आउट करने के लिए गेंदबाज रणनीति बनाते हैं। यह घटना कभी-कभी मैच में हो जाती है। हर कोई किसी को चोटिल करना नहीं चाहता है। मुझे लगता है कि यह खेल का हिस्सा है। हर टीम में ज्यादातर गेंदबाज 145 या 150 किमी की रफ्तार से गेंद फेंक रहे हैं।

- विश्व क्रिकेट में भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड अच्छा कर रहे हैं। आपको क्या लगता है कि कौन सी टीम संतुलित है?

- मैं किसी एक टीम के बारे में नहीं कह सकता। भारत और इंग्लैंड पिछले दो साल से अच्छा करते आ रहे हैं। उन टीमों के बीच अच्छी टक्कर चल रही है लेकिन यह इस पर निर्भर करता है कि आप उस दिन या टेस्ट में पांच दिन कैसा खेलते हैं। यह उस दिन के प्रदर्शन पर भी निर्भर करता है। वे पिछले कई साल से अच्छा कर रहे हैं।

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप