नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। टीम इंडिया के अंडर -19 क्रिकेटर्स को हमेशा से इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की नीलामी में फेंचाइजी काफी तरजीह देती हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल सकता है, जब 12 और 13 फरवरी को मेगा आक्शन होगा। वेस्टइंडीज में चल रहे अंडर -19 विश्व कप में इंडिया अंडर-19 के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया है।आइपीएल देखते हुए बड़ी हुई मौजूदा पीढ़ी की निगाहें नीलामी पर तो दूसरी अंडर-19 विश्व कप जीतने पर होगी।

2008 में तत्कालीन अंडर -19 टीम के कप्तान विराट कोहली और उनके साथी रवींद्र जडेजा ने ड्राफ्ट सिस्टम के माध्यम से रायल चैलेंजर्स बैंगलोर और राजस्थान रायल्स में जगह बनाई। खिलाड़ी नीलामी के लिए उपलब्ध नहीं थे और स्वाभाविक रूप से पैसा सीमित था। कुछ सालों में नियम बदले और इन युवा खिलाड़ियों को नीलामी में भाग लेने की अनुमति दी गई और तब से उन्हें अच्छा पैसा मिला और उनका जीवन हमेशा के लिए बदल गया।

इऩ अंडर-19 क्रिकेटर्स को इसलिए नहीं खरीदा जाता कि ये पहले सीजन से ही अच्छा प्रदर्शन करने लगेंगे। इन्हें भविष्य को ध्यान में रखकर फेंचाइजी बोली लगाती हैं। ऐसे में आइपीएल 2022 की नीलामी कई युवाओं के जीवन को बदल देगी और इस लीग उन्हें दुनिया के सामने अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका देगी। आइए बात करते उन पांच वर्तमान टीम इंडिया के अंडर -19 क्रिकेटर्स की जिन्हें 12 और 13 फरवरी को होने वाली नीलामी के दौरान मोटी रकम मिल सकती है।

हरनूर सिंह: हरनूर इस साल की अंडर-19 टीम की सबसे होनहार प्रतिभाओं में से एक हैं। वह टीम के प्रमुख बल्लेबाज हैं और उन्होंने हाल ही में खेले गए मैचों और अंडर-19 विश्व कप में भी कुछ शानदार पारियां खेली हैं। चल रहे अंडर -19 विश्व कप के भारत के दूसरे मैच में वह 88 रनों की पारी के साथ सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी थे। हरनूर निश्चित रूप से उन युवा बल्लेबाजों में से एक होंगे, जिसके लिए आइपीएल टीमें बोली लगा सकती हैं। 

अंगक्रिश रघुवंशी: सलामी बल्लेबाज अंगक्रिश बेहद भरोसेमंद बल्लेबाज हैं। उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ मैच में 79 रन बनाए और इसके बाद युगांडा के खिलाफ 120 गेंदों पर 144 रन बनाए। ऐसे में आक्शन में इन पर भी नजर रहेगी।

राज बावा: राज बावा आलराउंडर है और आइपीएल के लिए सबसे उपयुक्त अंडर-19 खिलाड़ी हैं। वह आराम से 3-4 ओवर गेंदबाजी कर सकते हैं और साथ ही एक अच्छे बल्लेबाज भी हैं। उन्होंने युगांडा के खिलाफ शानदार पारी (108 गेंदों में 162) खेलने के अलावा आयरलैंड के खिलाफ 64 गेंदों पर 42 रन बनाए थे। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चार बड़े विकेट लिए। जिन फ्रेंचाइजी को युवा आलराउंडर की जरूरत है, वे नीलामी में निश्चित रूप से बावा के लिए बोली लगाएंगी और युवा खिलाड़ी को मोटी रकम मिल सकती है।

यश धुल: भारत अंडर -19 के कप्तान यश धुल सभी प्रारूपों के लिए उपयुक्त हैं। वह हरनूर सिंह जितने प्रतिभावान खिलाड़ी हैं और वे भविष्य में सीनियर टीम इंडिया में भी खेलते दिखेंगे। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उनकी पारी (100 में 82 रन) बहुत प्रभावशाली थी। दुर्भाग्य से उन्हें कोरोना हो गया और अगले कुछ मैचों में नहीं खेल पाए। हालांकि, उन्होंने पहले ही अपनी क्षमता दिखा दी है और आइपीएल 2022 की मेगा आक्शन में फ्रेंचाइजी उनको अपने साथ जोड़ना चाहेंगी। आइपीएल के पिछले कुछ सत्रों में भारत के अंडर-19 कप्तान के लिए मोटी बोली लगी है।

विक्की ओस्टवाल: विक्की ओस्टवाल वर्तमान भारत अंडर -19 टीम में सर्वश्रेष्ठ स्पिन गेंदबाज हैं और उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 5/28 के शानदार गेंदबाजी करके यह बताया था। वह 2022 अंडर -19 विश्व कप के सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बन सकते हैं। इसलिए ओस्टवाल को आइपीएल नीलामी में अच्छी डील मिल सकती है।

Edited By: Tanisk