जोहानिसबर्ग, एएफपी। क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के क्रिकेट निदेशक और पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने गुरुवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ के अध्यक्ष सौरव गांगुली को इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी का अध्यक्ष बनाने का समर्थन किया था। ग्रीम स्मिथ के इस बयान के एक दिन बाद शुक्रवार को क्रिकेट साउथ अफ्रीका यानी सीएसए ने सफाई दी है कि स्मिथ का ये बयान बोर्ड का आधिकारिक बयान नहीं, बल्कि उनका निजी बयान था।

सीएसए ने आइसीसी के अध्यक्ष पद के लिए बीसीसीआइ अध्यक्ष सौरव गांगुली का समर्थन करने वाले अपने क्रिकेट निदेशक ग्रीम स्मिथ के बयान से अलग रूख अपनाते हुए कहा कि किसी भी उम्मीदवार को समर्थन देने से पहले प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। सीएसए के क्रिकेट निदेशक और पूर्व कप्तान स्मिथ ने आइसीसी के शीर्ष पद के लिए गुरुवार को गांगुली का समर्थन किया था, लेकिन इसके एक दिन बाद ही सीएसए ने स्मिथ के बयान से अलग रूख अपनाया।

सीएसए के अध्यक्ष क्रिस नेनजानी की ओर से कहा गया कि किस उम्मीदवार का समर्थन करना है, यह तय करने से पहले हमें आइसीसी और अपने स्वयं के प्रोटोकॉल का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अभी तक कोई उम्मीदवार नामित नहीं किया गया है और उम्मीदवारी तय होने के बाद सीएसए बोर्ड अपने प्रोटोकॉल के मुताबिक निर्णय लेगा। इस तरह ग्रीम स्मिथ के उस बयान के अब कोई मायने नहीं हैं।

वहीं, जब बीसीसीआइ के कोषाध्यतक्ष अरुण धूमल से सीएसए के क्रिकेट निदेशक सौरव गांगुली के आइसीसी अध्यक्ष पद के लिए समर्थन के बारे मे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अगर कोई भारतीय इस पद पर होगा तो यह वैश्विक क्रिकेट के लिए अच्छा होगा। भारत के कई दिग्गजों ने आइसीसी के अध्यक्ष पद की कमान संभाली है। ऐसे में अगर गांगुली को ये पद मिलता है तो फिर क्रिकेट की सूरत काफी हद तक बदल जाएगी, क्योंकि उनके पास विजन है।

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस