(एबी डिविलियर्स का कॉलम)

आइपीएल 2020 अब टूर डि फ्रांस में बदल चुका है। इस एलीट साइक्लिंग रेस के प्रशंसक जानते हैं कि कैसे इसके पड़ाव आते हैं। राइडर अपनी जगह संभालते हैं और मंजिल की ओर बढ़ने लगते हैं। जब तक कोई मूव उठाता है तब तक दूसरे का रिएक्शन आ जाता है। ये सिलसिला लगातार चलता रहता है। जब तक कि फिनिशिंग लाइन नजर नहीं आने लगती। और उसके बाद सभी प्रतिभागी सम्मान का वो शिखर हासिल करने के लिए पूरा जोर लगा देते हैं। यूएई में जो कुछ हो रहा है वो बिल्कुल ऐसा ही है।

जिन टीमों को पहले लग रहा था कि उन्होंने शीर्ष चार में अपनी जगह लगभग पक्की कर ली है, वे अब इसे लेकर निश्चिंत नहीं हैं। जिन टीमों को एक हफ्ते या उससे पहले ही होड़ से बाहर मान लिया गया था, उन्होंने अब लय हासिल कर ली है और खुद पर विश्वास करने लगी हैं। भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में टेलीविजन पर लाखों दर्शकों को इससे बेहतर प्रतिद्वंद्विता देखने को नहीं मिल सकती, क्योंकि मैचों के नतीजे पूरी तरह अविश्वसनीय हैं।

हम में से जिन्हें भी इस एक्शन का हिस्सा बनने का सम्मान मिला है, उनके सामने ड्रामा, उत्साह और कैलकुलेशन के बीच एक बड़ी चुनौती है। और वो है शांत रहना। शांत रहिए और अपनी बनाई योजना पर ध्यान केंद्रित कीजिए। शांत रहिए और दबाव में अपनी रणनीति पर अमल कीजिए। एक व्यक्तिगत खिलाड़ी के तौर पर भी शांत रहिए और एक टीम के तौर पर भी। मैं जानता हूं कि ये करने से ज्यादा कहना आसान है, लेकिन यही तो चुनौती है।

आरसीबी में हम जानते हैं कि क्या किए जाने की जरूरत है। अगर हमें अंक तालिका में शीर्ष दो में रहने का सपना पूरा करना है तो फिर शनिवार को शारजाह में सनराइजर्स हैदराबाद को हर हाल में हराना होगा। इसके बाद सोमवार को अबू धाबी में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ भी जीत दर्ज करनी होगी। सनराइजर्स हैदराबाद की टीम लय में है और शानदार क्रिकेट खेल रही है। वहीं दिल्ली शीर्ष स्तर की टीम है। कुछ भी आसानी से हासिल नहीं होता है। एक टीम के तौर पर हमने इस लीग में कुछ बेहतरीन खेल दिखाया है मगर हमें निरंतर अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है। गेंद और बल्ले दोनों से ही। चेन्नई और मुंबई के हाथों मिली हालिया हारों ने निश्चित रूप से दबाव बढ़ा दिया है।

हम इस बारे में बात कर चुके हैं कि जब हम बल्लेबाजी या गेंदबाजी कर रहे हों तो हमें साझेदारी बनाने की जरूरत है। जब दो बल्लेबाज मैदान पर उतरते हैं तो उन्हें हालात का लाभ उठाने की जरूरत है। जब दो गेंदबाज विपक्षी टीम पर धावा बोलते हैं तो उन्हें दबदबा बनाने की जरूरत है। टी-20 मैच में कभी आप शीर्ष पर होते हैं तो कभी विपक्षी टीम लय हासिल कर लेती है तो आपको नियंत्रण बनाए रखना मुश्किल होता है लेकिन दबाव में शांत रहकर और फोकस रहकर आप आमतौर पर ऐसे हालात से निकल जाते हैं। आगामी मैचों में हमारा भी यही लक्ष्य रहेगा।

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस