नई दिल्ली, जेएनएन । रायपुर को और बेहतर बनाने के क्रम में शहर के 11 महत्वपूर्ण मुद्दों के समाधान का काम तेजी से आगे बढ़ रहा है। यह मुद्दे दैनिक जागरण और जागरण न्यू मीडिया के माय सिटी माय प्राइड अभियान के दौरान फोरम में सामने आये थे। ऐसे ही एक खास मुद्दे के तहत अब रायपुर में शहर के सरकारी स्कूलों में सीनियर सिटिजन स्वेच्छा से पढ़ाएंगे। शहर ने इन्फ्रास्ट्रक्चर और एजुकेशन पर तीन-तीन कामों को चुना है, जिनका समाधान जनभागीदारी से होगा। सुरक्षा के दो और हेल्थ के भी दो कामों को चुना गया है, जबकि एक काम इकोनॉमी के क्षेत्र में किया जाएगा।
शहर की बेहतरी के 11 समाधान
1.सरकारी स्कूलों में सीनियर सिटिजन स्वैच्छिक रूप से पढ़ाने के लिए अपनी सेवाएं देंगे। (संरक्षक- विप्र स्वास्थ्य सेवा संगठन/ सिटिजन वेलफेयर सोसाइटी)
2. सरकारी स्कूलों में इंग्लिश सुधारने के लिए किट उपलब्ध कराई जाएगी। (संरक्षक- अरविंदो सोसाइटी)
3. अंबेडकर अस्पताल में सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। (संरक्षक- रायपुर ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन)
4.शास्त्री बाजार से गंदगी की समस्या को खत्म किया जाएगा। (संरक्षक- शास्त्री बाजार व्यापारी संघ/ सब्जी थोक व्यापारी संघ)
5.शहर के उद्यान को संवारा जाएगा। (संरक्षक - मेयर प्रमोद दुबे)
6. सरकारी स्कूलों से कचरा उठाया जाएगा। (संरक्षक - मेयर प्रमोद दुबे)
7.रायपुर के आसपास के अस्पतालों में स्टाफ बढ़ाया जाएगा। (संरक्षक- स्वास्थ्य आयुक्त आर प्रसन्ना)
8. सेवा भावना से स्कूलों में जाकर बच्चों को पढ़ाने के इच्छुक लोगों का ऐप बनेगा। (जिला शिक्षा अधिकारी एएन बंजारा)
9. साइबर ठगी के शिकार की मदद के लिए थानों को प्रशिक्षित किया जाएगा। (एसपी अमरेश मिश्रा)
10. बच्चों को नशामुक्त करने व हेल्मेट के लिए पुलिस का डियर जिंदगी अभियान घर-घर पहुंचाया जाएगा। (संरक्षक - रायपुर पुलिस)
11. ऑटोमोबाइल के लिए मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने पर जोर दिया जाएगा। (संरक्षक- छगन मुंदड़ा, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम।)

By Krishan Kumar