रायपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि : 'जागरण समूह' के 'माय सिटी माय प्राइड' के फोरम में फैसले 24 घंटे के भीतर ही लागू होने लगे हैं। बुधवार को रायपुर नगर निगम के महापौर प्रमोद दुबे ने फोरम में घोषणा की थी कि 'राउंड टेबल कॉन्‍फ्रेंस' में आए सुझाव के अनुरूप कचरा सफाई के दायरे में सभी सरकारी स्कूलों को भी लिया जाएगा। वहां भी निगम के कचरा वाहन नियमित रूप से रोज जाएंगे। गुरुवार को यह आदेश नगर निगम के सभी जोन आयुक्तों को जारी किया गया है।

फोरम के आयोजन से पहले नौ राउंड टेबल कांफ्रेंस नईदुनिया ने की थी। इसी कॉन्‍फ्रेंस में जेपी पांडे सरकारी स्कूल के प्राचार्य एमआर सावंत ने सुझाव दिया था कि सरकारी स्कूलों के लिए भी रोज कचरा वाहन भेजा जाना चाहिए। स्कूलों से भी रोजाना कचरा निकलता है और इसके उठाव का कोई सिस्टम अब तक नहीं बन सका है।

नगर निगम के अफसरों ने इस पर सहमति दी थी और उसी के अनुरूप मेयर दुबे ने बुधवार को हुए फोरम में कहा कि यह फैसला तत्काल लागू किया जाएगा। उनकी मंशा के अनुरूप निगम ने चौबीस घंटे के भीतर यह आदेश लागू कर दिया। मेयर ने खुद भी एक जोन आयुक्त को मौखिक रूप से आदेश दिया है कि स्कूल सुबह से लेकर दोपहर तक खुले रहते हैं, इसलिए बीच में किसी भी वक्त गाड़ी भेज कर वहां से कचरा निकालने की व्यवस्था की जाए।

मेयर ने इस परेशानी को भी समझा कि जेपी पांडे स्कूल का टॉयलेट काफी छोटा है। इससे बच्चों को बहुत परेशानी होती है। स्कूल में उन्होंने सर्वसुविधायुक्त बड़ा टॉयलेट देने के प्रस्ताव मंजूरी दी है। इसकी भी प्रक्रिया जल्द शुरू की जा रही हैं, स्कूल के प्राचार्य को निर्देशित कर दिया गया है कि वे स्कूल में जरूरत के हिसाब से बड़ा टॉयलेट रुम बनाने का प्रस्ताव बना कर भेजें। फिर इसका जोन स्तर पर परीक्षण कर निर्माण के लिए बजट की स्वीकृति दे दी जाएगी।

प्राचार्य भी मानते हैं कि यह सुविधा मिल जाने से बच्चों को काफी राहत मिलेगी। इसी स्कूल के मैदान को छोटा कर एक हिस्सा छोटापारा से महिला थाना चौक की ओर जाने वाली सड़क में मिला दिया गया है। इसका उद्देश्य सड़क को चौड़ा करना था। काफी समय से इस सड़क को गौरवपथ के अनुरूप विकसित करने का प्रस्ताव लंबित है। मेयर ने घोषणा की है कि गौरव पथ का निर्माण योजना के दूसरे चरण में शामिल किया जाएगा। फिर इसके लिए बजट की मंजूरी दी जाएगी।

By Krishan Kumar