Move to Jagran APP

छत्तीसगढ़ विधानसभा में हंगामे के बाद 4 खालिस्तान समर्थक गिरफ्तार, CM बोले- देश विरोधियों पर होगी सख्त कार्रवाई

सदन में मुद्दा उठने के कुछ ही देर बाद पुलिस ने रैली में शामिल रहे चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। भाजपा विधायकों ने गुरुवार को शून्यकाल में उक्त मामला उठाया। भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने कहा कि यह छत्तीसगढ़ के लिए खतरे की घंटी है।

By Jagran NewsEdited By: Piyush KumarPublished: Thu, 23 Mar 2023 09:53 PM (IST)Updated: Thu, 23 Mar 2023 09:53 PM (IST)
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की फाइल फोटो।

राज्य ब्यूरो, रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में खालिस्तान व अमृतपाल के समर्थन में नारेबाजी को लेकर गुरुवार को सदन में जमकर हंगामा हुआ। भाजपा ने आरोप लगाया कि यहां खालिस्तान के समर्थन में रैली निकाली जा रही है। इस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तीखे लहजे में कहा कि देशविरोधी तत्वों को छत्तीसगढ़ में प्रश्रय नहीं दिया जाएगा। रैली में किसी ने देशविरोधी नारा लगाया है तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सदन में मुद्दा उठने के कुछ ही देर बाद पुलिस ने रैली में शामिल रहे चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। भाजपा विधायकों ने गुरुवार को शून्यकाल में उक्त मामला उठाया। भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने कहा कि यह छत्तीसगढ़ के लिए खतरे की घंटी है। धरमलाल कौशिक ने कहा कि सरकार के सभी तंत्र फेल हो गए हैं। किसी सूत्र को नहीं पता की खालिस्तान के समर्थन में रैली निकाली जा रही।

देशविरोधी गतिविधियों में संलग्न व्यक्ति पर होगी कारर्वाई: रविंद्र चौबे

बृजमोहन अग्रवाल ने आरोप लगाया कि सरकार ने मामले को संज्ञान में नहीं लिया। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के विधायक धर्मजीत सिंह ने कहा कि खुलेआम देशविरोधी नारे लगाए गए और इंटेलिजेंस के पास कोई सूचना नहीं है।

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि खालिस्तानी भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की सोचते हैं, जिस पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। इसका उत्तर देते हुए मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि देशविरोधी गतिविधियों में संलग्न किसी व्यक्ति को छत्तीसगढ़ में सिर उठाने नहीं दिया जाएगा। इस मामले में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से चर्चा की है। इसकी सतत निगरानी की जा रही है।

खालिस्तान समर्थकों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

भूपेश मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि गुरद्वारा से 30-35 लोग बिना सूचना दिए नारा लगाते हुए निकले थे। सिख समाज के बलिदान व देशभक्ति को नहीं भुलाया जा सकता है, लेकिन जिस तरह से कुछ लोग नारा लगाते हुए निकले, उन्हें बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पुलिस को सभी वीडियो खंगालने का निर्देश दिया गया है। रैली में किसी भी व्यक्ति ने एक भी देशविरोधी नारा लगाया है, तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पक्ष-विपक्ष ने देशविरोधी नारे पर दिखाई एकजुटता

विधायक अजय चंद्राकर और बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि खालिस्तान के समर्थन में एक जुलूस पंजाब और दूसरा छत्तीसगढ़ में निकला है। इससे पूरे देश में राज्य की बदनामी हुई है। इसलिए मुख्यमंत्री के इस वक्तव्य को प्रस्ताव माना जाए। विधानसभा अध्यक्ष डा. चरणदास महंत ने कहा कि मुख्यमंत्री के वक्तव्य को प्रस्ताव के रूप में सम्मिलित करने का निर्णय आसंदी ने लिया है। संसदीय कार्यमंत्री र¨वद्र चौबे ने कहा कि इस पर पक्ष और विपक्ष की सहमति है।

यह है मामला

रायपुर में बुधवार को तेलीबांधा गुरुद्वारा के सामने कुछ लोगों ने रैली निकाली थी। प्रदर्शनकारी खालिस्तान समर्थक अमृतपाल ¨सह पर पंजाब पुलिस की कार्रवाई का विरोध कर रहे थे। सिविल लाइंस पुलिस ने रैली निकालने वालों को नोटिस जारी कर बुधवार रात को थाने तलब किया था। उनसे पूछताछ की गई थी।

सदन में हंगामे के बाद गुरुवार को पुलिस ने बिना अनुमति प्रदर्शन करने, समाज में वैमनस्यता व अशांति फैलाने के आरोप में दिलेर सिंह रंधावा, मनिंदरजीत सिंह उर्फ मिंटू, हरविंदर सिंह संधू उर्फ हरिंदर सिंह खालसा तथा हरप्रीत ¨सह रंधावा उर्फ ¨चटू को गिरफ्तार कर लिया। इन पर भादंवि की धारा 147, 153(ए), 504, 505(1)(बी) के तहत कार्रवाई की गई है। यह धाराएं गैरजमानती हैं।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.