नई दिल्ली। डोनाल्ड ट्रंप के नए अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद से ही एच1बी वीजा को लेकर तमाम तरह की अनिश्चितताएं बरकरार हैं। यह माना जा रहा है कि ट्रंप जल्द ही इस तरह के वीजा से जुड़े नियम व शर्तों को कड़ा कर सकते हैं। एच1बी वीजा को आमतौर पर उन लोगों के लिए जारी किया जाता है जो अमेरिका में काम करने के लिए जाते हैं। दैनिक जागरण की टीम अपनी इस खबर के माध्यम से आपको यह बताने की कोशिश करेगी कि एच1बी वीजा आखिर कैसे बनता है।

किन लोगों के लिए जारी होता है एच1बी वीजा:
एच1बी वीजा आमतौर पर उन लोगों के लिए जारी किया जाता है, जो किसी खास पेशे से जुड़े होते हैं और उन्हें विशेषज्ञता के लिहाज से सैद्धांतिक और व्यवहारिक रूप से आवेदन की जरूरत होती है। आवेदक को स्नातक (बैचलर) या उसके समकक्ष होना चाहिए। एक बार आपको एच1बी वीजा मिल जाने के बाद आप अपने पास की यूएस एंबेसी में साक्षात्कार के लिए जा सकते हैं। साक्षात्कार में सफल होने के बाद आपको एच1बी वीजा मिल जाता है।

एच1बी वीजा क्यों है भारतीयों के लिए बड़ी मुश्किल का सबब
सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की बड़ी भारतीय कंपनियों की आय का मॉडल आम तौर पर एच-1बी और एल1 वीजा पर ही निर्भर करता है और उनका कारोबार इस विधेयक से बुरी तरह प्रभावित होंगे। ऐसे में अगर ट्रंप इससे जुड़े नियमों को सख्त करते हैं तो लाखों भारतीयों की न सिर्फ नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है बल्कि इस क्षेत्र को नए बाजारों की तरफ मुंह भी तांकना पड़ सकता है।

क्या है वीजा बनवाने की प्रक्रिया:

एच1बी वीजा बनवाने के लिए आपको कई स्टेप फॉलो करने होते हैं, जानिए इनके बारे में....

पहला स्टेप: डिजिटल फोटोग्राफ होती है जरूरी

एच1बी वीजा के लिए डिजिटल फोटोग्राफ होना बहुत ही जरूरी होता है। वहीं इस फोटो के कुछ मानक भी होते हैं। अगर आप किसी अच्छे फोटोग्राफर को यह बताते हैं कि आपको एच1बी वीजा के लिए फोटो चाहिए तो वह आपके लिए इस हिसाब से ही फोटो खींच देगा।

कैसी होनी चाहिए डिजिटल फोटो

• डिजिटल फोटोग्राफ वर्गाकार हो

• 600 पिक्सल/ 600 पिक्सल की होनी चाहिए (न्यूनतम डाइमेंशन)

• 1200 पिक्सल/ 1200 पिक्सल होनी चाहिए (अधिकतम डाइमेंशन)

• फोटो कलर्ड होनी चाहिए

• फोटो JPEG फॉर्मेट में ही होनी चाहिए।

• इमेज की फाइल साइज कम से कम और लगभग 240 किलोबाइट्स होनी चाहिए।

दूसरा स्टेप: एच1बी वीजा एप्लीकेशन फॉर्म डीएस 160 को भरें

एच1बी वीजा आवेदन के लिए आपको ऑनलाइन माध्यम से एप्लीकेशन फॉर्म भरना होगा। आवेदन करने के बाद आपको 10 डिजिट के बारकोड के साथ एक कन्फर्मेशन मिलेगा। इसका प्रिंटआउट निकाल लें। आपके वीजा इंटरव्यू एप्वाइंटमेंट के लिए यह जरूरी कागज होगा।

तीसरा कदम: एच1बी वीजा का आवेदन शुल्क भरें

आवेदन शुल्क का भुगतान बैंक मनी ट्रासफर या फिर देशभर में खुले सिटी और एक्सिस बैंक में कैश भुगतान के जरिए किया जा सकता है। आपकी ओर से पर्याप्त राशि का भुगतान किया जा चुका है या नहीं यह जानने के लिए आपको पहले यूएस वीजा सर्विस की आधिकारिक वेबसाइट पर अपना प्रोफाइल बनाना होगा और उसके बाद शेड्यूल्ड एप्वाइंटमेंट विकल्प को चुनना होगा। भुगतान की पुष्टि के लिए आपकी स्क्रीन पर भुगतान विकल्प के साथ एक पेज खुलेगा जिसमें यह भी बताया जाएगा कि भुगतान कैसे आरंभ करें। आप अपने वीजा इंटरव्यू के लिए एक साल के भीतर तारीख ले लें।

चौथा स्टेप: इंटरव्यू के लिए एप्वाइंटमेंट लें

आवेदन भरने और आवेदन शुल्क के भुगतान के बाद आपको विजिटर वीजा प्रॉसेस के लिए 2 एप्वाइंटमेंट लेने होंगे। यानी ये एप्वाइंटमेंट दो चरणों में होगा जिसमें से पहला ऑफसाइट सुविधा केंद्र (OFC) में होगा जहां आपकी बायोमेट्रिक जानकारी (फिंगरप्रिंट, फोटोग्राफ) मांगी जाएगी और दूसरे चरण में आपको एंबेसी में साक्षात्कार देना होगा।

पांचवां कदम: वीजा एप्लीकेशन सेंटर में जाकर फिंगरप्रिंटिंग प्रोसेस पूरी करें

इंटरव्यू के लिए एप्वाइंटमेंट लेने के बाद आपको फिंगरप्रिंटिंग के लिए समय लेना होगा, यह काम आपको अपने अंतिम साक्षात्कार से दो दिन पहले करना होगा। लेकिन नए नियम के मुताबिक अब आपको VAC सेंटर जाकर अपनी बायोमेट्रिक जानकारियां देनी होती हैं।

छठा कदम: इंटरव्यू के लिए अमेरिका की एंबेसी में जाएं

इंटरव्यू वाले दिन आपको अमेरिका के वाणिज्यिक दूतावास में पुख्ता दस्तावेजों के साथ जाना होता है। इस दिन अपने साथ ये कागजात जरूर रखें.....

1. अपना पासपोर्ट

2. फोटोग्राफ

3. VAC में स्टांप लगाए जाने के बाद आपको दिया गया DS-160 वीजा एप्लीकेशन फॉर्म

4. वीजा एप्लीकेशन की फी रिसेप्ट

5. वीजा एप्वाइंटमेंट लेटर

6. आपने किस तरह के वीजा का आवेदन किया है उससे जुड़े कागजात