Move to Jagran APP

BoB समर्थित इस इंश्योरेंस कंपनी को मिली IPO लॉन्च करने की मंजूरी, फ्रेश इश्यू के साथ आ रहा OFS

Bank of Baroda IndiaFirst Life Insurance Company IPO अगर आप निवेश करने की सोच रहे हैं तो आपको बता दें कि बैंक ऑफ बड़ौदा समर्थित इंश्योरेंस कंपनी का आईपीओ जारी होने वाली है। सेबी ने इसके लिए मंजूरी दे दी है। (फाइल फोटो)

By Sonali SinghEdited By: Sonali SinghPublished: Tue, 21 Mar 2023 04:14 PM (IST)Updated: Tue, 21 Mar 2023 05:26 PM (IST)
IndiaFirst Life Insurance Company IPO Gets Approval By SEBI

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) द्वारा समर्थित इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस कंपनी (IndiaFirst Life) का आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (IPO) जल्द पेश हो सकता है। बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने इसके लिए ऑब्जर्वेशन लेटर दे दी है, जिसका मतलब है कि IPO के लिए मंजूरी दे दी गई है। इसलिए, अगर आप हाल के दिनों में शेयरों में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो यह आपके लिए एक अच्छा मौका हो सकता है।

बता दें कि कंपनी ने पिछले साल अक्टूबर में सेबी के साथ आईपीओ के लिए दस्तावेज दायर किए थे और कंपनी को 15 मार्च को इसका अवलोकन पत्र दिया गया।

इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस के शेयर

इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस के आईपीओ में कंपनी के प्रमोटरों और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 500 करोड़ रुपये तक का फ्रेस इश्यू और 14,12,99,422 इक्विटी शेयरों की ऑफर फॉर सेल (OFS) द्वारा पेशकश की जा रही है। फर्म एक निजी प्लेसमेंट के आधार पर या 100 करोड़ रुपये तक के राइट्स इश्यू पर विचार कर सकती है। अगर ऐसा हो जाता है, तो फ्रेस इश्यू का आकार कम हो जाएगा। ये सभी इक्विटी शेयर बीएसई और एनएसई पर सूचीबद्ध होंगे।

ये कंपनियां हैं निवेशक

इंडियाफर्स्ट लाइफ को भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के दो सबसे बड़े बैंकों, बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक द्वारा समर्थन प्राप्त है। बैंक ऑफ बड़ौदा, इस इंश्योरेंस कंपनी में 65 प्रतिशत हिस्सेदारी रखता है, इसके बाद वारबर्ग पिंकस सहयोगी कार्मेल पॉइंट इन्वेस्टमेंट्स इंडिया है, जिसके पास 26 प्रतिशत शेयर है।

वहीं, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की 9 प्रतिशत हिस्सेदारी है। बता दें कि बैंक ऑफ बड़ौदा भारत का तीसरा सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का ऋणदाता है।

इस तरह होगी शेयरों की हिस्सेदारी

शेयरों के हिस्सेदारों के रूप में बैंक ऑफ बड़ौदा 8,90,15,734 इक्विटी शेयर बेचेगा, जबकि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया OFS में 1,30,56,415 इक्विटी शेयर बेचेगा। वहीं, कार्मेल पॉइंट इन्वेस्टमेंट्स इंडिया बैंक ऑफ बड़ौदा 8,90,15,734 इक्विटी शेयर बेचेगा, जबकि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ओएफएस में 1,30,56,415 इक्विटी शेयर बेचेगा। कार्मेल पॉइंट इन्वेस्टमेंट्स इंडिया प्राथमिक हिस्सेदारी बिक्री के दौरान 3,92,27,273 इक्विटी शेयरों को बेचेगी।

शेयरों का इस्तेमाल

500 करोड़ रुपये के फ्रेस इश्यू द्वारा प्राप्त आय का उपयोग सॉल्वेंसी स्तरों का समर्थन करने के लिए और अपने पूंजी आधार को बढ़ाने के लिए किया जाएगा। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, एंबिट, बीएनपी परिबास, बीओबी कैपिटल मार्केट्स, एचएसबीसी सिक्योरिटीज एंड कैपिटल मार्केट्स (इंडिया), जेफरीज इंडिया और जेएम फाइनेंशियल इश्यू के बुक-रनिंग लीड मैनेजर हैं।

 


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.