नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। लापरवाही तरीके से खर्च करना बिना किसी लक्ष्य के खर्च करने से व्यक्ति कर्ज के जाल में फंस सकता है। इसलिए, जो कुछ भी करें वो प्लानिंग के साथ करें। अगर आप कर्ज के जाल में फंसे हैं तो कैसे निकलना है उसका भी तरीका है। जानें।

सेबी इन्‍वेस्‍टमेंट एडवाइजर और एक्सपर्ट जितेंद्र सोलंकी कहते हैं, क्रेडिट कार्ड लेनदेन को कभी भी पोस्टपोन न करें। क्रेडिट कार्ड लेनदेन में देरी या बिल न भरने से वे खत्म नहीं हो जाएंगे।

खर्च और मूल्यों को समझें

कर्ज मुक्त जीवन जीने के लिए याद रखने वाली दूसरी बात खर्च और मूल्यों को समझना ज्यादा जरूरी है।व्यक्तियों को हमेशा अधिक खर्च के समय सोचना चाहिए कि इसमें से कितना जरूरत का है और कितना खर्च नहीं करने से काम चल जाएगा। खर्चों के लिए एक बजट बनाना, क्रेडिट कार्ड खातों की जांच करना, नई आदतें विकसित करने का प्रयास करना जैसे कि बाहर खाने के बजाय घर पर खाना बनाना इससे आप ज्यादा खर्च से बच सकते हैं।

ऑटोमेटिक EMI पेमेंट्स

व्यक्ति को ऑटो-डेबिट विकल्प चुनकर कर्ज चुकौती को सबसे ज्यादा प्राथमिकता देनी चाहिए। साथ ही देय तिथि तक क्रेडिट कार्ड पर बकाया राशि का भुगतान करने का प्रयास करना चाहिए, और बिल की राशि को अगले बिलिंग साइकिल जाने से बचाना चाहिए।

अतिरिक्त नकदी का निवेश करेंकाम पर प्रमोशन या बोनस मिलने पर हर कोई खुश होता है। हालांकि, एक बैंक खाते में अतिरिक्त नकदी रखना फायदे वाली बात नहीं है, जो हर साल 2 प्रतिशत या 2.5 प्रतिशत ब्याज देता है। सोलंकी कहते हैं, अतिरिक्त पैसे को निवेश करके इसे बुद्धिमानी से उपयोग करना चाहिए।

समझदारी से कर्ज चुकाएं

जितेन्द्र सोलंकी कहते हैं, जो लोग पहले से ही भारी कर्ज के बोझ तले दबे हैं, वे कर्ज चुकौती रणनीति बना सकते हैं। पहली बात यह कि किसी भी नए कर्ज से बचना चाहिए, खासकर क्रेडिट कार्ड के कर्ज से। अगर EMI का भुगतान करना मुश्किल हो रहा है, तो आप कुछ निवेश या गैर-आय पैदा करने वाली संपत्तियों को बेचने और कर्ज चुकौती के लिए आय का उपयोग करने की योजना बना सकते हैं।

Edited By: Nitesh