नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। पीपीएफ (PPF) एक लोकप्रिय लॉन्ग टर्म निवेश विकल्प है, जो EEE स्टेटस के साथ आता है। अर्थात इस निवेश विकल्प में निवेशक को तीन स्तरों पर आयकर छूट मिलती है। पहले निवेश के समय फिर ब्याज आय पर और उसके बाद मैच्योरिटी राशि पर। पीपीएफ अपने ग्राहकों से एक उच्च ब्याज दर की पेशकश करता है। पोस्ट ऑफिस के अलावा एसबीआई (SBI) जैसे कई बैंक भी पीपीएफ में निवेश की सुविधा अपने ग्राहकों को देते हैं।

अगर आप एसबीआई के जरिए पीपीएफ में निवेश करना चाहते हैं, तो आपको फॉर्म-ए भरना होगा और उसे जरूरी दस्तावेजों के साथ एसबीआई की किसी भी शाखा में जमा कराना होगा। पीपीएफ खाता किसी एक शाखा में खोला जा सकता है, इसलिए आपको फॉर्म-ए में उस शाखा की जानकारी देनी होगी, जहां आप अपना पीपीएफ अकाउंट खुलवाना चाहते हैं। एक व्यक्ति द्वारा केवल एक पीपीएफ अकाउंट ही खोला जा सकता है। हालांकि, नाबालिग की तरफ से खाता खोला जा सकता है।

एसबीआई के साथ पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए इन दस्तावेजों की होगी जरूरत

पीपीएफ अकाउंट खोलने के लिए फॉर्म-ए के साथ ही नॉमिनेशन फॉर्म, पैन कार्ड की प्रति/फॉर्म 60-61, पासपोर्ट आकार की फोटो और बैंक के केवाईसी नियमों के अनुसार आईडी प्रूफ और निवास प्रमाण पत्र से संबंधित दस्तावेज की प्रति की जरूरत होती है।

यह है योग्यता

कोई भी वयस्क भारतीय नागरिक पीपीएफ अकाउंट खुलवा सकता है। साथ ही किसी नाबालिग की तरफ से भी व्यस्क व्यक्ति द्वारा पीपीएफ अकाउंट खुलवाया जा सकता है। नाबालिग संतान की तरफ से उसके माता या पिता पीपीएफ अकाउंट खुलवाा सकते हैं, लेकिन माता-पिता दोनों एक ही नाबालिग संतान के लिए पीपीएफ अकाउंट नहीं खुलवा सकते हैं। किसी नाबालिग लड़के या लड़की के लिए उसके दादा/दादी पीपीएफ अकाउंट नहीं खुलवा सकते हैं। हालांकि, नाबालिक बच्चों के माता-पिता की मृत्यु हो जाने पर एक अभिभावक के रूप में दादा/दादी नाबालिग की तरफ से पीपीएफ अकाउंट खुलवा सकते हैं।

ब्याज दर

पीपीएफ पर ब्याज दर को हर तीन महीने में सरकार द्वारा तय किया जाता है। इस समय पीपीएफ पर ब्याज दर 7.1 फीसद है और पीपीएफ अकाउंट की अवधि 15 साल है।

योगदान

पीपीएफ अकाउंट में एकमुश्त या अधिकतम 12 किश्तों में निवेश किया जा सकता है। पीपीएफ अकाउंट में न्यूनतम 500 रुपये के निवेश की अनुमति है। साथ ही अधिकतम 1.5 लाख रुपये एक वित्त वर्ष में निवेश किये जा सकते हैं। अगर कोई निवेशक वित्त वर्ष के पूरे होने तक न्यूनतम 500 रुपये भी निवेश नहीं करता है, तो 50 रुपये प्रति वर्ष के हिसाब से जुर्माना लगता है।

पीपीएफ कैलकुलेटर

निवेशक पीपीएफ मैच्योरिटी राशि, ब्याज आय, पीपीएफ पर लोन और तत्काल पीपीएफ निकासी राशि की गणना के लिए पीपीएफ कैलकुलेटर का उपयोग ले सकते हैं। एसबीआई पीपीएफ कैलकुलेटर का उपयोग कर आप आसानी से उपलब्ध ब्याज दर और अवधि के हिसाब से अपने रिटर्न की गणना कर सकते हैं। इसके अलावा कई अन्य पीपीएफ कैलकुलेटर्स भी ऑनलाइन उपलब्ध हैं। एसबीआई अपने ग्राहकों और गैर-ग्राहकों दोनों से ही पीपीएफ के लिए पेशकश करता है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस