नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) भारत में उपलब्ध सबसे अच्छे लॉन्ग टर्म निवेश विकल्पों में से एक है जो कि निश्चित रिटर्न की गारंटी देता है। इसका इस्तेमाल ज्यादातर बच्चों की शिक्षा या शादी के लिए या रिटायरमेंट फंड बनाने के लिए किया जाता है। पीपीएफ में जमा करने पर आयकर की धारा 80सी के तहत इनकम टैक्स में डिडक्शकन के लिए दावा किया जा सकता है और मैच्योरिटी के वक्त पैसे निकालने पर भी कोई टैक्स नहीं लगता है। पीपीएफ में पैसा ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन भी जमा किया जा सकता है। पीपीएफ में ऑनलाइन 3 अलग-अलग तरीकों से पैसा जमा किया जा सकता है।

PPF में 3 तरीकों से कैसे जमा करते हैं पैसा जानिए

ECS: ईसीएस मैंडेट के माध्यम से आप PPF अकाउंट में पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं। पहले ईसीएस मैंडेट को पीपीएफ अकाउंट से सेट करना होगा। इस प्रक्रिया में अकाउंट से पैसा कट जाता है और पीपीएफ में जमा हो जाता है। इंटरबैंक पैसा ट्रांसफर करने के लिए इस प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जा सकता है।

स्टेंडिंग इंस्ट्रक्शन: मान लीजिये अगर सेविंग अकाउंट और पीपीएफ एक ही ब्रांच में होता है तो इस प्रक्रिया के लिए ग्राहक को इसकी जानकारी बैंक को देनी होती है, यह बताना होता है कि मंथली पैसा बचत खाते से पीपीएफ में ट्रांसफर किया जा सकता है। हालांकि, एक वित्त वर्ष में इसमें 1.5 लाख रुपये अधिकतम ट्रांसफर किए जा सकते हैं। आपकी ओर से एक बार बैंक को जानकारी देने के बाद बैंक ऑटोमैटिकली पैसा सेविंग अकाउंट से पीपीएफ अकाउंट में भेज देता है।

NEFT: नेटबैंकिंग के जरिए इसमें पैसा जमा किया जा सकता है, इसके लिए PPF अकाउंट नंबर और बैंक ब्रांच के IFSC कोड काम आएंगे। NEFT बचत खाता और चालू खाता दोनों के जरिए किया जा सकता है। इसमें 30 मिनट का समय लगता है, जबकि इंट्रा बैंक प्रोसेस में कुछ मिनट/घंटे लग सकते हैं।

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप