नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अगर आप सीनियर सिटिजन (वरिष्‍ठ नागरिक) हैं और अपने लिए कोई सेविंग अकाउंट खोलने के बारे में सोच रहे हैं तो आप सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS) में निवेश कर अच्छा रिटर्न पा सकते हैं। रिटायरमेंट के बाद अधिकतर लोग चाहते हैं कि उनके पैसे को एक सही ग्रोथ मिले, जिसके लिए यह स्कीम बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है।

कितना मिलता है ब्‍याज और कौन खुलवा सकता है खाता: वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (Senior Citizen Savings Scheme या SCSS) वरिष्‍ठ नागरिकों के निवेश के लिए एक अच्‍छी योजना है। इस योजना पर वर्तमान में भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) 8.60 फीसद ब्‍याज दे रहा है। नियमों के अनुसार, अप्रवासी भारतीय (NRI) और हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) इस वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना के अंतर्गत अकाउंट नहीं खुलवा सकते हैं। इस योजना की परिपक्‍वता अवधि 5 साल है, जिसे 3 साल तक और बढ़ाया जा सकता है।

अधिकतम 15 लाख रुपये करवा सकते हैं जमा: एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, कोई भी व्यक्ति एससीएसएस अकाउंट अकेले या संयुक्त रूप से खोल सकता है। इसी के साथ एक अकाउंट होल्डर एक से अधिक अकाउंट भी चला सकता है, हालांकि सभी अकाउंट में जमा धन 15 लाख से अधिक नहीं होना चाहिए। सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की ब्‍याज दरें सरकार की तरफ से समय-समय पर तय की जाती हैं।

एसबीआई सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम के बारे में जरूर जानें ये 5 बातें:

1. पात्रता: 60 साल या उससे अधिक उम्र का व्यक्ति एसबीआई में एससीएसएस अकाउंट खोल सकता है। 55 साल या उससे अधिक लेकिन 60 साल से कम उम्र के व्यक्ति जो रिटायर हुए हैं, वह भी यह अकाउंट खुलवा सकते हैं।

2. ब्याज दरें: एससीएसएस में जमा राशि पर 8.60 फीसद प्रति वर्ष की दर से ब्याज मिल रहा है जो कि जमा होने की तारीख से एक साल पूरा होने के बाद मिलता है। अमाउंट प्रत्येक कैलेंडर तिमाही यानी 31 मार्च, 30 जून, 30 सितंबर और 31 दिसंबर को मिलता है।

3. डिपॉजिट मोड: इसमें जमा नकद में किया जा सकता है, अगर जमा की राशि 1 लाख रुपये से कम है।

4. अकाउंट का रिन्‍यूअल: एक अकाउंट होल्डर 5 साल की मैच्योरिटी अवधि पूरी होने के बाद 3 साल के लिए एससीएसएस अकाउंट का विस्तार करवा सकता है।

5. अन्य सुविधाएं: इस स्कीम में नॉमिनेशन फैसिलिटी भी मिलती है। अकाउंट होल्डर एक या उससे अधिक लोगों को अकाउंट का नॉमिनी बना सकता है। अगर बीच में पैसे निकालने हैं तो एससीएसएस से एक साल बाद पैसे निकाले जा सकते हैं, लेकिन उसके लिए पेनल्टी देनी पड़ती है।  

Posted By: Sajan Chauhan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप