नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए पैसा कमाने के साथ-साथ निवेश करना भी बहुत जरूरी होता है। भले ही हर रोज आपको कई जरूरी काम क्यों ही न रहते हो, लेकिन निवेश करना आपकी आदत में शामिल होना चाहिए। एक और बात जो ध्यान रखने योग्य है वह ये है कि निवेश हमेशा सोच-समझ कर करना चाहिए। सरकार, बैंक और फाइनेंशियल कंपनियां, कई तरह की सेविंग स्कीम ऑफर का करती हैं, जिससे लोग अपने निवेश की गई राशि पर अच्छा रिटर्न पाते हैं। अगर आप सोच-समझकर, सही तरीके से कम समय के लिए निवेश करते हैं तो इसका आपको काफी फायदा मिलेगा। हम आपको निवेश से जुड़ी 4 ऐसी स्कीम्स के बारे में बता रहे हैं, जिससे आप भविष्य में पैसों की जरूरत को पूरा कर सकते हैं।

फिक्स डिपॉजिट (एफडी): यह निवेश का सबसे सुरक्षित तरीका है। फिक्स डिपॉजिट में आपको एक निश्चित समय के लिए पैसे जमा करना होता है और आपको उन पैसों पर एक निश्चित दर से ब्याज मिलता है। अगर आप ज्यादा रिटर्न चाहते हैं, तो निजी क्षेत्र के बैंकों और कंपनियों में निवेश के बारे में सोच सकते हैं। हालांकि, अधिकतर बैंक और फाइनेंशियल कंपनियां एफडी पर 7 फीसद की शुरुआती दर से ब्याज देती हैं। इसमें निवेश करने का फायदा यह है कि बैंक और फाइनेंशियल कंपनियां एफडी में 7 दिन से लेकर 10 साल तक के निवेश की सुविधा देती हैं। अगर कभी आपको पैसों की बहुत अधिक जरूरत है तो आपको कुछ राशि पेनाल्टी के तौर पर देनी होगी, फिर आप अपना पैसा निकाल सकते हैं।

आवर्ती जमा (आरडी): आवर्ती जमा में निवेश से ब्याज भी अधिक मिलता है और जब आपको पैसे की जरूरत होती है, तो एक मुश्‍त रकम भी मिल जाती है। इस योजना के तहत आप बैंक और पोस्ट ऑफिस में हर महीने एक निश्चित अमाउंट जमा करवा सकते हैं। जिसके बाद बैंक आपको एक निश्चित दर पर ब्याज देता है। यदि आप नौकरी पेशा हैं तो आप अपने सैलरी अकाउंट के साथ आरडी खाता खोल सकते हैं। सेविंग अकाउंट के साथ आरडी खोलने पर आपको हर महीने पैसा जमा करने की जरूरत नहीं होती। आपके अकाउंट से ऑटोमैटिक पैसा कट जाता है। कम समय के लिए निवेश में आवर्ती जमा भी अच्छा विकल्प है।

लिक्विड फंड्स: छोटी अवधि में बेहतरीन रिटर्न के लिए लिक्विड फंड आपके लिए बेहतरीन निवेश विकल्प है। लिक्विड फंड में निवेश जोखिम रहित होता है। साथ ही कोई लॉक इन पीरियड भी नहीं होता है। लिक्विड फंड में रिटर्न की दर घटती-बढ़ती रहती है। लिक्विड फंड में कोई भी व्यक्ति 1 हफ्ते से 1 साल तक किसी भी अवधि के लिए निवेश कर सकता है। हर महीने अपनी सैलरी का बचा हिस्सा भी आप लिक्विड फंड में निवेश कर अच्छा रिटर्न पा सकते हैं। सेविंग्स एकाउंट में आपकी सैलरी पर 4 फीसद की दर से रिटर्न मिलता है वहीं दूसरी ओर लिक्विड फंड में 8 फीसदी तक का रिटर्न मिल जाता है।

शॉर्ट टर्म बॉन्ड फंड्स: यह निवेश योजना छोटी अवधि यानी कि एक वर्ष से तीन वर्ष के लिए होता है। यदि निवेशक एक वर्ष से कम समय के लिए निवेश करना चाहता है, तो शॉर्ट टर्म बॉन्ड फंड्स निवेश करना चाहिए। हालांकि इस निवेश योजना में ब्याज दर और जोखिम दोनों निवेशकों को वहन करना पड़ता है।

Posted By: Surbhi Jain