नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने जानकारी दी है कि यूजर्स अब घर बैठे बैंकिंग सेवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं। यूजर्स इसे आधार माइक्रो एटीएम (ऑटोमैटिक टैलर मशीन) के जरिए कर सकते हैं। यह जानकारी यूआईडीएआई ने एक ट्वीट के माध्यम से दी है। मौजूदा समय में देशभर में करीब चार लाख आधार माइक्रो एटीएम हैं जो कार्ड लैस और पिन लैस बैंकिंग सुविधा उपलब्ध करवाते हैं। 59 करोड़ व्यक्ति अब बैंकिंग ट्रांजेक्शन के लिए आधार माइक्रो एटीएम को इस्तेमाल कर सकते हैं। आधार माइक्रो एटीएम पेमेंट एक नया तरीका है जो कंपलीट पेमेंट सॉल्यूशन मुहैया कराता है। यहां पर ट्रांजेक्शन के लिए यूजर को केवल आधार चाहिए होता है। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) 12 अंकों का आधार नंबर जारी करता है।

क्या है ट्वीट-

जानिए आधार माइक्रो एटीएम से जुड़ी बड़ी बातें-

आधार माइक्रो एटीएम के जरिए कस्टमर्स मूल वित्तीय लेनदेन कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें आधार नंबर और पहचान प्रमाण के लिए फिंगरप्रिंट (इंटर बैंक ट्रांजेक्शन के लिए बैंक पहचान नंबर की जरूरत होती है) की जरूरत होती है।   

आधार माइक्रो एटीएम पेमेंट सॉल्यूशन कार्ड लैस और पिन लैस बैंकिंग को लक्षित करता है।

यह मशीनें मॉडिफाइड पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) डिवाइस की तरह होती हैं। बैंक प्रतिनिधि यह मशीन अपने साथ रखते हैं और इस लिए कस्टमर्स घर बैठे मूल बैंकिंग सेवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आधार माइक्रो एटीएम के जरिए किये गये लेनदेन पर कोई सर्विस चार्ज नहीं लगता।

माइक्रो एटीएम में कैश इन और आउट जैसे काम ऑपरेटर की ओर से किये जाते हैं। इससे डिवाइस की लागत में कमी आती है जिससे कि ग्राहक को दी जाने वाली सुविधा की लागत भी कम होती है। माइक्रो एटीएम नकदी जमा, नकदी निकासी, फंड्स का ट्रांस्फर, बैंक खाते के लिए बैंलेंस स्टेटमेंट जैसी सेवाएं उपलब्ध कराता है।   

Edited By: Surbhi Jain

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट