Move to Jagran APP

Upcoming IPO: खुल गया Ola Electric के आईपीओ का रास्ता, SEBI ने दे दी कंपनी को मंजूरी

शेयर मार्केट में आईपीओ का सिलसिला थमा नहीं है। आज भारतीय नियामक रेगुलेटरी (SEBI) ने दो कंपनियों के आईपीओ को मंजूरी दे दी है। जी हां ओला इलेक्ट्रिक (Ola Electric) और एमक्योर फार्मास्यूटिकल्स (Emcure Pharmaceuticals) के आईपीओ को मंजूरी मिल गई है। अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो आइएइन दोनों कंपनियों के आईपीओ के बारे में जानते हैं।

By Agency Edited By: Priyanka Kumari Thu, 20 Jun 2024 02:54 PM (IST)
SEBI ने इन कंपनियों के IPO को दी मंजूरी

पीटीआई, नई दिल्ली। आईपीओ (IPO) का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आज बाजार नियामक (SEBI) ने टू व्हीलर कंपनी ओला इलेक्ट्रिक (Ola Electric) और एमक्योर फार्मास्यूटिकल्स (Emcure Pharmaceuticals) के आईपीओ को मंजूरी दे दी है। इन दोनों कंपनियों ने दिसंबर में आईपीओ के लिए सेबी ने ड्राफ्ट पेपर फाइल किया था।

आइए, इन दोनों कंपनियों के आईपीओ के बारे में जानते हैं।

ओला इलेक्ट्रिक आईपीओ (Ola Electric IPO)

ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) के मुताबिक ओला इलेक्ट्रिक ने अपने आईपीओ में 5,500 करोड़ रुपये तक के फ्रेश शेयर और 9.52 करोड़ इक्विटी शेयरों को ऑफर फॉर सेल (OFS) के लिए प्रस्तावना दी थी।

ओला इलेक्ट्रिक की कंपनी बेंगलुरु में स्थित है। कंपनी इस आईपीओ से जुटाए राशि का इस्तेमाल पूंजीगत व्यय, सहायक ओईटी के लोन पेमेंट, रिसर्च और प्रोडक्ट डेवल्पमेंट में निवेश और नए सोर्स से इनकम कमाने के लिए करेगा।

अगर कंपनी के वित्तीय प्रदर्शन की बात करें तो वित्तीय वर्ष 2023 के लिए में कंपनी का रेवेन्यू एक साल पहले के मुकाबले सात गुना से ज्यादा बढ़कर 2,630.93 करोड़ रुपये हो गया।

यह भी पढ़ें- कितनी बार करवा सकते हैं PPF Extension? जानिए इस स्‍कीम से जुड़े नियम

एमक्योर फार्मास्यूटिकल्स आईपीओ (Emcure Pharmaceuticals IPO)

रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के मसौदे के मुताबिक एमक्योर फार्मास्यूटिकल्स ने 800 करोड़ रुपये आईपीओ पेश करने का प्रस्ताव दिया। इस आईपीओ में फ्रेश शेयर और ऑफर फॉर सेल दोनों शामिल है।

ओएफएस में प्रमोटर सतीश मेहता और निवेशक बीसी इन्वेस्टमेंट्स IV लिमिटेड शामिल हैं। आपको बता दें कि एमक्योर फार्मास्यूटिकल्स अमेरिका स्थित निजी इक्विटी प्रमुख बेन कैपिटल (Bain Capital) की सहयोगी कंपनी है।

वर्तमान में सतीश मेहता के पास कंपनी की 41.92 प्रतिशत हिस्सेदारी और बीसी इन्वेस्टमेंट के पास 13.09 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कंपनी फ्रेश शेयरों से आई राशि का इस्तेमाल लोन के भुगतान और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए करेगा।

यह भी पढ़ें- Income Tax Return फाइल करते समय जरूरी होता है ITR Form, आपके लिए कौन-सा फॉर्म रहेगा परफेक्ट?