मुंबई, प्रेट्र : अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के संकेतों पर ग्लोबल बाजारों में जोरदार तेजी आई। इसे देखते हुए सोमवार को निवेशकों ने दलाल स्ट्रीट में भी ताबड़तोड़ लिवाली कर डाली। इस वजह से बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 460.36 अंक यानी 1.82 फीसद की छलांग लगाकर 25688.86 पर बंद हुआ। बीते सत्र में यह सूचकांक 33.71 अंक टूटा था। इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 132.60 अंक यानी 1.71 उछलकर 7866.05 पर बंद हुआ।

ताजा आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में रोजगार की स्थिति निराशाजनक रही है। इस वजह से वहां जून से सितंबर के दौरान फेडरल रिजर्व की ओर से ब्याज दरों में बढ़ोतरी की जो आशंका थी, वह कुछ महीनों के लिए टल गई है। इस कारण दुनियाभर के ज्यादातर बाजारों में तेजी आई। ग्रीस की संसद में खर्च कटौती का बिल पास होने से यूरोपीय बाजार और भड़क गए। इसे देखते हुए घरेलू बाजार में तेजडि़ये पूरी तरह हावी हो गए। इसके अलावा घरेलू मोर्चे पर कुछ कंपनियों के बेहतर तिमाही वित्तीय नतीजों ने भी दलाल स्ट्रीट की कारोबारी धारणा को मजबूती दी। अलबत्ता अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले चार पैसे कमजोर पड़ा है।बीएसई का तीस शेयरों वाला सेंसेक्स इस दिन 25321.83 अंक पर मजबूत खुला। यह नीचे में 25302.86 अंक तक गया। बाद में लिवाली के जोर में यह सूचकांक चढ़ता चला गया। एक समय यह सत्र के ऊंचे स्तर 25709.68 अंक को छू गया।

बीएसई के सूचकांकों में बैंकिंग, फाइनेंस, कैपिटल गुड्स और टेलीकॉम को खरीदारी का ज्यादा लाभ मिला। छोटी और मझोली कंपनियों से जुड़े स्मालकैप व मिडकैप सूचकांकों में भी एक फीसद से ज्यादा की तेजी आई। सेंसेक्स की तीस कंपनियों में 26 के शेयर उछले, जबकि चार में गिरावट दर्ज हुई।

शेयर मार्केट के नाम पर लाखों बटोरकर आरोपी फरार

Edited By: Manish Negi