नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सकारात्मक वैश्विक संकेतों के बीच घरेलू शेयर बाजार गुरुवार को एक फीसद से ज्यादा की बढ़त के साथ बंद हुए। BSE का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 638.70 अंक यानी 1.22 फीसद के उछाल के साथ 52,837.21 अंक के स्तर पर बंद हुआ। दूसरी ओर NSE Nifty 191.95 अंक यानी 1.23 फीसद चढ़कर 15,824.05 अंक के स्तर पर बंद हुआ। Nifty पर JSW Steel, Tech Mahindra, Bajaj Finance, Bharti Airtel एवं Bajaj Finserv के शेयरों में सबसे ज्यादा उछाल देखने को मिला। वहीं, HUL, Asian Paints, Bajaj Auto, Cipla और M&M के शेयर लाल निशान के साथ बंद हुए।

सेक्टोरल इंडेक्स की बात की जाए तो एफएमसीजी को छोड़कर अन्य सभी इंडिक्स हरे निशान के साथ बंद हुए। BSE midcap और smallcap भी 1.5-1.5 फीसद की बढ़त के साथ बंद हुए।

Sensex पर इन शेयरों में रही तेजी

BSE Sensex पर Tech Mahindra के शेयर में 5.65 फीसद, Bajaj Finance के शेयर में 4.21 फीसद, Bharti Airtel के शेयर में 3.93 फीसद और Bajaj Finserv के शेयर में 3.72 फीसद का उछाल देखने को मिला। इनके अलावा टाटा स्टील, L&T, इन्फोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, टाइटन, सन फार्मा, रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries), एचडीएफसी, इंडसइंड बैंक, नेस्ले इंडिया, मारुति, डॉक्टर रेड्डीज, पावरग्रिड, एनटीपीसी, अल्ट्राटेक सीमेंट, एचडीएफसी बैंक, टीसीएस (TCS), कोटक महिंद्रा बैंक, एसबीआई, एचसीएल टेक, आईटीसी और एक्सिस बैंक के शेयर हरे निशान के साथ बंद हुए।

इन शेयरों में रही गिरावट

Sensex पर हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड के शेयरों में 2.27 फीसद, एशियन पेंट्स के शेयर में 1.73 फीसद, बजाज ऑटो के शेयर में 1.32 फीसद और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर 0.27 फीसद की गिरावट के साथ बंद हुए।

जानिए इस तेजी की वजह

Julius Baer के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर मिलिंड मुच्छला ने कहा कि सकारात्मक वैश्विक संकेतों और वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में बेहतर परिणाम की बदौलत भारतीय बाजारों ने अच्छी वापसी की है।

उन्होंने कहा कि, 'बाजार स्पष्ट रूप से ऐसे स्टॉक या सेक्टर को हाथों-हाथ ले रहा है, जहां आमदनी के आंकड़े मजबूत बने हुए हैं या जहां ग्रोथ की संभावनाएं अच्छी नजर आ रही हैं।'

अन्य बाजारों का हाल

अन्य एशियाई बाजारों की बात की जाए तो शंघाई, हांगकांग, सिओल और टोक्यो में शेयर बाजार में उछाल के साथ बंद हुए। दूसरी ओर, यूरोपीय बाजारों में दोपहर के सत्र में तेजी देखने को मिल रही थी।