नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। Rupee falls all time low: भारतीय रुपया मंगलवार को 22 पैसे गिरकर अपने न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया। सप्ताह के दूसरे शुरुआती कारोबारी दिन रुपये ने डॉलर के मुकाबले अपने रिकॉर्ड न्यूनतम स्तर 78.59 को छू लिया है। इससे पहले सोमवार को भी रुपया डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ था। सोमवार को कारोबार के दौरान रुपया 4 पैसे की गिरावट के साथ रिकॉर्ड 78.37 पर बंद हुआ था। ऐसे में रुपया पिछले दो कारोबारी सत्र से अपने निचले स्तर पर पहुंच रहा है। 

क्या रही रुपये में गिरावट की वजह?

मंगलवार को बाजार खुलते ही रुपये रिकॉर्ड न्यूनतम स्पर पर पहुंच गया। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर रुपये में कमजोरी की वजह क्या है? दरअसल विदेशी फंड्स की लगातार निकासी की जा रही है। साथ ही विदेशों में डॉलर में तेजी दर्ज की जा रही हैं। यही वजह है कि डॉलर के मुकाबले रुपया गिरकर अपने न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया है।

रुपये में गिरावट का दौर रहेगा जारी 

मेहता इक्विटीज लिमिटेड के वीपी कमोडिटीज राहुल कलंत्री ने कहा कि घरेलू बाजारों में एफआईआई की लगातार बिकवाली से भी रुपये पर दबाव पड़ रहा है। कलंत्री के मुताबिक रूस पर और आर्थिक प्रतिबंध वैश्विक ऊर्जा कीमतों को बढ़ा सकते हैं और उभरते बाजार की मुद्राओं पर दबाव डाल सकते हैं। कलंत्री ने कहा कि हमें उम्मीद है कि इस सप्ताह रुपये में उतार-चढ़ाव बना रहेगा और यह 78.55 के स्तर को पार कर सकता है।

शेयर बाजार में गिरावट का दौर जारी 

वैश्विक ऑयल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 1.20 प्रतिशत बढ़कर 116.47 डॉलर प्रति बैरल हो गया। घरेलू इक्विटी बाजार के मोर्चे पर 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 314.88 अंक या 0.59 प्रतिशत की गिरावट के साथ 52,846.40 पर कारोबार कर रहा था, जबकि एनएसई निफ्टी 101.75 अंक या 0.64 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,730.30 पर कारोबार कर रहा था। स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक सोमवार को पूंजी बाजार में शुद्ध विक्रेता थे, क्योंकि उन्होंने 1,278.42 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री की।

Edited By: Saurabh Verma