Move to Jagran APP

तिरुपति बालाजी मंदिर के दर्शन करने पहुंचे मुकेश अंबानी, किया इतने करोड़ का दान

Mukesh Amabni News मुकेश अंबानी आंध्र प्रदेश में तिरुमला वेंकटेश्वर मंदिर गए थे। उनके साथ राधिका मर्चेंट और रिलायंस रिटेल लिमिटेड के डायरेक्टर मनोज मोदी भी पहुंचे थे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मैं भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन करने और उनका आशीर्वाद लेने आया हूं।

By Abhinav ShalyaEdited By: Published: Sat, 17 Sep 2022 12:19 PM (IST)Updated: Sat, 17 Sep 2022 12:19 PM (IST)
Reliance Industries chairman Mukesh Ambani visits Tirupati Balaji Temple

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। देश की सबसे मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी ने शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के तिरुपति में भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन किए। इस दौरान उनकी ओर से मंदिर के ट्रस्ट तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम को 1.5 करोड़ रुपये का दान किए गए। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम भगवान वेंकटेश्वर मंदिर का प्रबंधन करता है।

उनके साथ भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन करने छोटे बेटे अनंत अंबानी की मंगेतर राधिका मर्चेंट भी पहुंची थी। मर्चेंट ने इस मंदिर के प्रांगण में मौजूद हाथी को खाना भी खिलाया और आशीर्वाद भी लिया।

1.5 करोड़ का दान दिया

मुकेश अंबानी के साथ इस मौके पर रिलायंस रिटेल लिमिटेड के डायरेक्टर मनोज मोदी भी थे। अंबानी ने मंदिर के ट्रस्ट को 1.5 करोड़ रुपये का दान दिया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मैं तिरुमाला भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन करने और उनका आशीर्वाद लेने आया हूं।

इसके साथ आगे उन्होंने कहा कि मंदिर साल दर साल बेहतर होता जा रहा और इस पर सभी भारतीय काफी गर्व करते हैं।

श्रीनाथजी मंदिर भी गए थे

अंबानी परिवार को काफी धार्मिक माना जाता है। इससे पहले अंबानी परिवार सोमवार को राजस्थान के राजसमंद जिले के नाथद्वारा स्थिति श्रीनाथजी मंदिर भी गया था। उन्हें कई बार परिवार के साथ मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में दर्शन करते हुए भी देखा गया है।

मुकेश अंबानी की संपत्ति

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी का नाम दुनिया के टॉप 10 अमीरों की सूची में आता है। मुकेश अंबानी की संपत्ति फिलहाल 92.2 बिलियन डॉलर है और वे दुनिया के आठवें सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

ये भी पढ़ें-

PM Modi Birthday: प्रधानमंत्री मोदी की वो योजनाएं, जिनसे बदल गई आम आदमी की जिंदगी

विदेशी मुद्रा भंडार गिरकर 550 बिलियन डॉलर पहुंचा; जानें गिरावट के पीछे का कारण


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.