नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। केंद्रीय बजट पेश होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी वित्त मंत्रालय के सभी पांच विभागों के साथ बैठक करने वाले हैं। इस बैठक में देश की आर्थिक वृद्धि को बढ़ाने और रोजगार सृजन की रुपरेखा पर चर्चा होगी। यह बैठक 20 जून को आयोजित होने की उम्मीद है।

सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री की वित्त मंत्रालय के साथ बैठक की योजना के कारण जीएसटी परिषद की बैठक को एक दिन टाल दिया गया है। गौरतलब है कि जीएसटी परिषद की बैठक पहले 20 जून को आयोजित होनी थी। बताया जा रहा है कि वित्त मंत्रालय के विभिन्न विभागों के साथ अपनी बैठक में प्रधानमंत्री मोदी हर विभाग के रोडमैप पर चर्चा करेंगे साथ ही रेवेन्यू बढ़ाने के एजेंडे पर भी विचार-विमर्श करेंगे।

गौरतलब है कि 2018-19 के दौरान जीडीपी ग्रोथ रेट घटकर पांच साल के निचले स्तर पर 6.8 फीसद पर आ गई है। इसलिए भी प्रधानमंत्री की यह बैठक महत्वपूर्ण मानी जा रही है। वहीं, वित्त मंत्रालय इस समय 2019-20 के बजट को अंतिम रूप देने में जुटा हुआ है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से अप्रैल माह में ही सभी मंत्रालयों को नई सरकार के लिए एजेंडा तय करने के लिए कह दिया गया था। इस बैठक में पीएम उस 100 दिन के एजेंडे पर भी चर्चा कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी वित्त मंत्रालय के जिन पांच विभागों की बैठक करने वाले हैं, उनमें आर्थिक मामलों का विभाग, राजस्व विभाग, व्यय विभाग, वित्तीय विभाग और DIPAM है। बैठक के दौरान आर्थिक मामलों के विभाग से विकास, रोजगार सृजन और मुद्रास्फीति सहित अर्थव्यवस्था की स्थिति, राजस्व विभाग से कर आधार बढ़ाने और जीएसटी में नई संभावनों को लेकर चर्चा हो सकती है। आपको बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 5 जुलाई को बजट पेश करेंगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Pawan Jayaswal