नई दिल्ली, पीटीआइ। प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत अब तक 40 करोड़ से अधिक बैंक खाते खुल चुके हैं। नरेंद्र मोदी सरकार ने छह वर्ष पहले इस योजना की शुरुआत की थी। यह वित्तीय समावेशन से जुड़ी केंद्र सरकार की प्रमुख योजना है। हालिया आंकड़ों के मुतिबाक इस योजना के लाभार्थियों की संख्या 40.05 करोड़ तक पहुंच चुकी है और इन बैंक खातों में 1.30 लाख करोड़ रुपये से अधिक की राशि जमा है।  

वित्तीय सेवा विभाग ने ट्वीट कर कहा है, ''वित्तीय समावेशन से जुड़ी विश्व की सबसे बड़ी योजना PMJDY के तहत एक और उपलब्धि हासिल हुई है। इस स्कीम के तहत खोले गए कुल बैंक खातों की संख्या 40 करोड़ के आंकड़े को पार कर गई है...'' 

PMJDY की छठी वर्षगांठ से ठीक पहले यह उपलब्धि हासिल हुई है। इस स्कीम को 28 अगस्त, 2014 को लांच किया था। इसका लक्ष्य देश के हर व्यक्ति को बैंकिंग सुविधाओं तक समान पहुंच सुनिश्चित करना है। 

PMJDY स्कीम के तहत बेसिक सेविंग बैंक अकाउंट (BSBD) खोले जाते हैं। इस अकाउंट के खाताधारकों को रुपे डेबिट कार्ड और ओवरड्राफ्ट की सुविधा मिलती है। इन अकाउंट्स में आपको मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की जरूरत भी नहीं होती है।  

इस स्कीम की सफलता को देखते हुए सरकार ने इस योजना के तहत खाताधारकों को मिलने वाले एक लाख रुपये के दुर्घटना बीमा को बढ़ाकर दो लाख रुपये कर दिया। 28 अगस्त, 2018 के बाद खुलने वाले खातों के लिए दुर्घटना बीमा की राशि में यह बढ़ोत्तरी की गई थी। इसके अलावा ओवरड्राफ्ट की सीमा को दोगुना करते हुए 10,000 रुपये कर दिया गया था।  

यहां उल्लेखनीय है कि इस योजना के लाभार्थियों में आधी हिस्सेदारी महिलाओं की है। सरकार ने प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना के तहत हाल में महिला जनधन खाताधारकों के खातों में तीन किस्त में 1,500 रुपये की राशि भेजी है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस