नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। वो 90 का दशक था। तब लोगों के घरों में ब्लैक एंड व्हाइट टेलिविजन ही हुआ करते थे। फिल्म एवं धारावाहिक के बीच आने वाले तमाम विज्ञापनों में एक काफी चर्चित था। वो था "कर्रम कुर्रम-कुर्रम कर्रम" के जिंगल वाला लिज्जत पापड़ का एड। जब देश आर्थिक उदारीकरण के आगोश में था तब लिज्जत पापड़ का स्वाद लोगों के घरों तक पहुंच रहा था। देखते देखते ये बेजान सा पापड़ एक ब्रांड बन गया। आपको बता दें कि गुजराती में लिज्जत का मतलब होता है स्वाद।

इस ब्रांड ने एक कीर्तिमान रचने का काम किया। हम अपनी इस खबर में आपको बताएंगे कि आखिर कैसे 80 रुपये के लोन से शुरु किया गया बिजनेस 800 करोड़ रुपये के एक साम्राज्य में बदल गया।

1950 से शुरू हुआ लिज्जत पापड़ का सफर: वर्ष 1950 में सात गुजराती महिलाओं ने पापड़ बनाने का काम शुरू किया। पापड़ का चुनाव इसलिए किया गया क्योंकि इन महिलाओं के पास बस यही एक हुनर था। लेकिन बड़ी समस्या यह थी कि इस बिजनेस को चलाने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे। इस स्थिति में उन्होंने एक सामाजिक कार्यकर्ता छगनलाल कमरसी पारेख से 80 रुपये उधार लिए। इस रकम से पापड़ को एक उद्योग में बदलने के लिए बुनियादी सामग्री खरीदी गई। हुनर और मेहनत केदम पर काम चल निकला और कंपनी खड़ी हो गई। 15 मार्च 1959 को मशहूर मर्चेंट भूलेश्वर जो कि मुंबई में एक मशहूर मार्केट है में इस ब्रांड के पापड़ बेचे जाने लगे। उस वक्त ये महिलाएं दो ब्रांड के पापड़ बनाती थीं। एक सस्ते और एक महंगे। लेकिन छगनलाल पारेख उर्फ छगनबप्पा ने इन महिलाओं को सलाह दी कि वो अपनी गुणवत्ता से समझौता न करें। इन महिलाओं ने इनकी बात मानते हुए सिर्फ गुणवत्ता वाले पापड़ बनाने पर ही ध्यान दिया। लिज्जत ने सहकारी योजना के तौर पर विस्तार करना शुरु किया। देखते देखते इस बिजनेस में 25 लड़किया काम करने लगीं।

पहले साल कंपनी ने कमाए 6196 रुपये: पहले साल कंपनी ने 6196 रुपये का बिजनेस किया। धीरे-धीरे लोगों के प्रचार और समाचार पत्रों में लिखे जाने वाले लेखों के माध्यम से यह मशहूर होने लगा और काम के आलम यह रहा कि दूसरे वर्ष में इस कंपनी में 300 महिलाएं काम करने लगीं।

वर्ष 1962 में पापड़ का नाम लिज्जत और संगठन का नाम श्री महिला गृह उद्योग लिज्जत पापड़ रखा गया था। वर्तमान में बाजार में इस ब्रांड के पापड़ समेत अन्य उत्पाद भी उपलब्ध हैं। याहू की एक रिपोर्ट की मानें तो लिज्जत पापड़ के सफल सहकारी रोजगार ने करीब 43 हजार महिलाओं को काम दिया।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप