नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। घरेलू शेयर बाजारों में बढ़त का सिलसिला बुधवार को भी जारी रहा। BSE का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक Sensex 382.95 अंक या 0.74 फीसद के उछाल के साथ 52,232.43 अंक के स्तर पर बंद हुआ। वहीं, NSE Nifty 114.20 अंक यानी 0.73 फीसद की बढ़त के साथ 15,690.40 अंक के स्तर पर बंद हुआ। इस तरह सेंसेक्स और निफ्टी रिकॉर्ड क्लोजिंग हाई (बाजार बंद होने के समय का स्तर) पर बंद हुए। Nifty पर Titan, ONGC, Eicher Motors, L&T व Axis Bank के शेयरों में सबसे ज्यादा उछाल देखने को मिला। वहीं, IndusInd Bank, Wipro, Dr Reddy's Lab, Cipla तथा Bajaj Auto के शेयरों में टूट देखने को मिली। 

सेक्टोरल इंडेक्स की बात की जाए तो इन्फ्रा, मेटल, एफएमसीजी, एनर्जी और बैंकिंग सेक्टर के शेयरों में लिवाली देखने को मिली। दूसरी ओर फार्मा स्टॉक पर दबाव देखने को मिला। BSE Midcap भी एक फीसद की बढ़त के साथ रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया। Samllcap Index में भी एक फीसद की तेजी देखने को मिली।

Sensex पर इन शेयरों में रही तेजी

Sensex पर Titan के शेयरों में सबसे ज्यादा 6.69 फीसद का उछाल दर्ज किया गया। इसी तरह ONGC के शेयर में 4.16 फीसद, लार्सन एंड टुब्रो के शेयर में 2.64 फीसद, Axis Bank के शेयर में 1.82 फीसद, कोटक महिंद्रा बैंक के शेयर में 1.80 फीसद, बजाज फाइनेंस के शेयर में 1.61 फीसद, एचडीएफसी बैंक के शेयर में 1.07 फीसद, एशियन पेंट्स के शेयर में 1.02 फीसद और HDFC के शेयर में 0.84 फीसद की तेजी देखने को मिली।

इनके अलावा नेस्ले इंडिया, इन्फोसिस, एनटीपीसी, एसबीआई, भारती एयरटेल, टीसीएस, रिलायंस, मारुति, आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank), हिन्दुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड और आईटीसी के शेयर हरे निशान के साथ बंद हुए।

इन शेयरों में हुआ नुकसान

IndusInd Bank के शेयरों में सबसे ज्यादा 2.15 फीसद की टूट देखने को मिली। इसके अलावा पावरग्रिड (Powergrid), बजाज ऑटो, महिंद्रा एंड महिंद्रा, डॉक्टर रेड्डीज, एचसीएल टेक, सन फार्मा, टेक महिंद्रा और बजाज फिनजर्व के शेयर लाल निशान के साथ बंद हुए।

जानें इस उछाल की वजह

LKP securities में प्रमुख (शोध) एस रंगनाथ ने कहा, ''आरबीआई के पॉलिसी अनाउनंसमेंट से पहले शेयर बाजार में अच्छी तेजी बनी रही। वहीं इस बात की उम्मीदों से भी बाजार को बल मिला कि वैक्सीनेशन अभियान को रफ्तार मिलने और पूंजीगत व्यय से जुड़े प्रोग्राम से आने वाले समय में क्रेडिट ग्रोथ बेहतर हो सकता है। यहां तक कि दलाल स्ट्रीट को भी इस बात की आशा है कि आरबीआई मुद्रास्फीति पर निगाह रखते हुए नीतिगत रुख को उदार बनाए रखेगा। हमने इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की बड़ी कंपनियों के साथ उच्च गुणवत्ता वाले कुछ चुनिंदा मिडकैप कंपनियों के शेयरों में गतिविधियां देखी हैं।''

Edited By: Ankit Kumar