वाशिंगटन। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष [आइएमएफ] ने अगले वित्त वर्ष 2014-15 में भारत की आर्थिक विकास दर 5.4 फीसद रहने का अनुमान जताया है। संगठन ने बेहतर विकास हासिल करने के लिए आपूर्ति की बाधाएं दूर करने और महंगाई प्रबंधन की बेहतर नीतियां लागू करने का सुझाव दिया है। वहीं, रेटिंग एजेंसी इकरा ने अगले साल विकास दर पांच से 5.5 फीसद के बीच रहने की उम्मीद जताई है।

आइएमएफ ने कहा कि खाद्य पदार्थो की महंगाई दर अगले साल भी दोहरे अंकों के करीब रहने के आसार हैं। हालांकि मौद्रिक सख्ती के कारण अर्थव्यवस्था में सुधार की रफ्तार धीमी रहेगी। चालू वित्त वर्ष में विकास दर 4.6 फीसद रहने का अनुमान है। भारत सरकार ने चालू वित्त वर्ष में वृद्धि दर 4.9 फीसद रहने की उम्मीद जताई है।

पढ़ें: टेलीकॉम कंपनियों का अधिग्रहण हुआ आसान

सिडनी में 22 फरवरी से शुरू होने जा रही जी-20 देशों की बैठक के लिए तैयार नोट में आइएमएफ ने ऊंची महंगाई दर वाले देशों को कीमतें घटाने के लिए अपनी राजकोषीय और मौद्रिक नीति को मजबूत बनाने को कहा है। इकरा के मुताबिक सामान्य मानसून और मैन्यूफैक्चरिंग क्षेत्र में सुधार के चलते अर्थव्यवस्था में मजबूती के आसार बढ़े हैं।

पढ़ें: 'किम जोंग उन' ने विलासिता पर फूंके चार हजार करोड़

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस