नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कोरोना संकट ने हमें दिखा दिया है कि हम सभी के जीवन में सेविंग की कितनी अधिक अहमियत है। हम बिना फाइनेंशियल प्लानिंग के आज के समय में आगे नहीं बढ़ सकते हैं। वहीं, आप इस बात से सहमत होंगे कि आज के जमाने में शिक्षा और हेल्थकेयर सुविधाएं महंगी हो गई हैं। ऐसे में अगर आप वित्तीय बचत की योजना बना रहे हैं तो बेहतर होगा कि आप अपने बच्चों की शिक्षा और खासकर उच्च शिक्षा को ध्यान में रखकर प्लानिंग करें। हालांकि, आपके पास बच्चों के नाम से भी सेविंग करने के विकल्प मौजूद है। आप बच्चों के लिए Sukanya Samriddhi Scheme और PPF जैसी योजनाओं में निवेश कर सकते हैं। 

आइए जानते हैं कि आप अपने बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए किन योजनाओं में निवेश कर सकते हैं और उन योजनाओं की क्या खासियत हैः 

1. Sukanya Samriddhi Scheme: जैसा कि नाम से ही यह स्पष्ट है, यह स्कीम बच्चियों के लिए है। ऐसे में अगर आपकी बेटी है तो यह आपके लिए निवेश का बहुत अच्छा ऑप्शन है। इस योजना में निवेश पर आपको कई अन्य योजनाओं से बेहतर ब्याज मिलता है। इस समय इस योजना पर सरकार 7.6 फीसद की दर से ब्याज दे रही है। इस योजना पर मिलने वाले ब्याज की समीक्षा तिमाही आधार पर सरकार द्वारा किया जाता है। SSY Account 21 साल में मेच्योर होता है। वहीं इस स्कीम में 15 साल तक अंशदान करना होता है। बच्ची के 18 साल की आयु होने के बाद मेच्योरिटी से पहले भी आंशिक निकासी कर सकते हैं। वहीं, अगर बच्ची की 18 साल की उम्र के बाद शादी हो जाती है तो इस स्कीम को 21 साल से पहले भी बंद कराया जा सकता है। वहीं, इस फंड में निवेश पर आपको आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत छूट भी मिलती है।  

2. PPF: Public Provident Fund (PPF) भी लंबी अवधि के निवेश के हिसाब से एक अच्छी योजना है। PPF Account भी 15 साल में मेच्योर होता है। स्टेट बैंक, केनरा बैंक सहित देश के कई बैंक अपने यहां पीपीएफ अकाउंट खोलने की सुविधा देते हैं। अगर आप ऑनलाइन बैंकिंग करते हैं तो ऑनलाइन पीपीएफ अकाउंट खोल सकते हैं। इस योजना में एक साल में 1.5 लाख रुपये तक का निवेश किया जा सकता है। आप अपने नाबालिग बच्चे के नाम से भी पीपीएफ अकाउंट खोल सकते हैं। हालांकि, कुल मिलाकर आप 1.5 लाख रुपये सालाना की सीमा को पार नहीं कर सकते हैं। PPF में किए गए अंशदान पर भी टैक्स में छूट मिलती है। इस योजना में निवेश पर अभी 7.1 फीसद की दर से ब्याज मिलता है।  

3. म्यूचुअल फंड्सः लंबी अवधि में अच्छा रिटर्न प्राप्त करने के लिए SIP एक अच्छा निवेश विकल्प है। बच्चों की उच्च शिक्षा और शादी लंबे समय का Goal होता है तो कोई भी व्यक्ति इन लक्ष्यों को लेकर इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में निवेश कर सकता है। इसके लिए माता-पिता नाबालिक बच्चे के नाम से म्यूचुअल फंड फोलियो ओपन कर सकते हैं क्योंकि म्यूचुअल फंड में संयुक्त अकाउंट नहीं खोला जा सकता है। वहीं, नाबालिग के नाम से म्यूचुअल फंड ओपन करने पर माता-पिता या कानूनी रूप से अभिभावक को अकाउंट का कस्टोडिअन बनाया जाता है।  

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस