Move to Jagran APP

Gold Price Today: सोने की कीमतों में अब जल्दी नहीं आएगा बड़ा उछाल, ऐसा क्यों कह रहे एक्सपर्ट

चीन ने सोने की खरीद बंद करने का भी संकेत दिया है। इससे सोने में मुनाफावसूली हुई है। इससे पता चलता है कि पीली धातु की कीमतों में कुछ समय के लिए बड़ा उछाल आने की संभावना कम है। अब सोने के कारोबारियों की नजर आगामी अमेरिकी नीति निर्णय और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर रहेगी जो 12 जून को आने वाले हैं।

By Agency Edited By: Suneel Kumar Published: Mon, 10 Jun 2024 06:34 PM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 06:34 PM (IST)
चीन ने सोने की खरीद बंद करने का भी संकेत दिया है।

पीटीआई, नई दिल्ली। सोने की कीमतों में सोमवार को कोई बदलाव नहीं हुआ। यह राष्ट्रीय राजधानी में 71,800 रुपये प्रति 10 ग्राम पर स्थिर रहा। एचडीएफसी सिक्योरिटीज में कमोडिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक सौमिल गांधी के अनुसार, कॉमेक्स स्पॉट गोल्ड में शुक्रवार को 3.45 फीसदी की गिरावट के बाद सोमवार को सोने में कोई बदलाव नहीं हुआ, जो अगस्त 2021 के बाद सबसे ज्यादा है। हालांकि, चांदी की कीमत 200 रुपये बढ़कर 92,100 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई। पिछले सत्र में यह 91,900 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी।

क्या है एक्सपर्ट की राय?

सौमिल गांधी ने कहा, "दिल्ली के बाजारों में हाजिर सोने की कीमतें (24 कैरेट) 71,800 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार कर रही हैं। पिछले कारोबारी सत्र में भी सोने का यही भाव था।" विदेशी बाजारों में, कॉमेक्स में हाजिर सोना पिछले बंद से 1 डॉलर कम होकर 2,293 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा था। हालांकि, चांदी की कीमत में तेजी रही और यह 29.50 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। पिछले सत्र में यह 29.15 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई थी।

ठहरा रहेगा सोना?

एलकेपी सिक्योरिटीज में कमोडिटी और करेंसी के वीपी रिसर्च एनालिस्ट जतिन त्रिवेदी ने कहा, "सोने की कीमतें मामूली गिरावट के बाद सीमित दायरे में कारोबार कर रही हैं। यह उतार-चढ़ाव मुख्य रूप से मजबूत अमेरिकी डॉलर से प्रभावित था।" सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 10 पैसे की गिरावट के साथ 83.50 पर बंद हुआ।

त्रिवेदी ने कहा, "चीन ने सोने की खरीद बंद करने का भी संकेत दिया है। इससे सोने में मुनाफावसूली हुई है। इससे पता चलता है कि पीली धातु की कीमतों में कुछ समय के लिए बड़ा उछाल आने की संभावना कम है।" उन्होंने कहा कि अब व्यापारी अपना ध्यान आगामी अमेरिकी नीति निर्णय और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर लगाएंगे, जो 12 जून को आने वाले हैं। इससे सोने की कीमतों की दिशा और दशा के बारे में और अधिक जानकारी मिलेगी।

यह भी पढ़ें : Stock Market vs Gold: शेयर बाजार या सोना, किसमें निवेश करने से मालामाल हो सकते हैं आप?

 


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.