नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आज के समय में लोन की मदद से कार खरीदना काफी आसान हो गया है। कार खरीदने के बाद उसे सड़क पर उतरने से पहले उसका इंश्योरेंस करवाना बहुत जरूरी होता है। लंबे समय से कार डीलर कार के साथ-साथ इंश्योरेंस बंडल करके ग्राहकों को दे रहे हैं। आम तौर पर कार डीलर्स के साथ कई इंश्योरेंस कंपनियों के साथ टाई-अप होता है और ज्यादा इंश्योरेंस बेचने पर डीलर को फायदा पहुंचता है। इंश्योरेंस बेचने के लिए कार डीलर इंश्योरेंस कंपनियों के लिए बिक्री का बहुत बड़ा माध्यम होता है। कार इंश्योरेंस पॉलिसी के दो तरह के हैं। थर्ड पार्टी कवर और ओन डैमेज कवर। एक थर्ड पार्टी इंश्योरेंस आपको कार एक्सीडेंट के दौरान किसी तीसरे व्यक्ति या प्रॉपर्टी को नुकसान का बीमा करता है। वहीं ऑन डैमेज कवर व्हीकल को चोरी या एक्सीडेंट होने पर इंश्योरेंस करता है। सभी वाहनों के लिए थर्ड पार्टी कवर अनिवार्य है, वहीं ओन डैमेज कवर की सलाह दी जाती है। डीलर आमतौर पर एक ऐसा कार इंश्योरेंस पॉलिसी बेचते हैं, जिसमें ये दोनों कवर शामिल होते हैं।

एक कार डीलर से कार इंश्योरेंस खरीदने के ये हैं घाटे

लिमिटेड ऑप्शन

कार डीलर का लक्ष्‍य कार बेचना है और इंश्योरेंस बेचना नहीं होता है। इन दिनों डीलर कार के साथ-साथ एक बंडल प्रोडक्ट के रूप में कार इंश्योरेंस की पेशकश कर रहे हैं, जिसकी वजह से खरीदार को कई ऑफ्शन नहीं मिल पाते हैं। एक डीलर के पास आमतौर पर प्रमुख इंश्योरेंस कंपनियों के साथ एक टाई-अप होता है जो हर व्यक्ति के लिए लगभग एक ही प्रकार का इंश्योरेंस प्रोवाइड करते हैं। कम ऑप्शन होने की वजह से ग्राहक को एक पॉलिसी खरीदनी होती है जो कार को पर्याप्त कवरेज प्रदान करने में विफल रहती है। इसके अलावा डीलर की तरफ से दी गई कार इंश्योरेंस पॉलिसी कई प्रतिबंधों के साथ आती है।

ये भी पढ़ें: प्राकृतिक खूबसूरती और ताजी हवा का लेना है आनंद तो घूम आइए भूटान, IRCTC ने पेश किया किफायती टूर पैकेज

एक्सेस प्रीमियम

बंडल कार इंश्योरेंस प्रोवाइड करने के लिए आमतौर पर कार डीलर इंश्योरेंस कंपनियों के साथ टाई-अप और अन्य व्यवसाय व्यवस्था में जुड़ते हैं। इसके अलावा इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रीमियम के अलावा कुछ प्रमुख पहलुओं जैसे सर्विसिंग और क्लेम में जुड़ते हैं। इससे सीधे पॉलिसी का प्रीमियम प्रभावित होता है, जिससे ग्राहक बहुत अधिक प्रीमियम देने के लिए मजबूर होते हैं। अधिकतर एक इंश्योरेंस कंपनी से एक डीलर को मिलने वाली कुल इनकम 40 फीसद तक हो जाती है।

ये भी पढ़ें: बैंक अकाउंट बंद करवाने का ये है प्रोसेस, जानेंगे तो नहीं होगी परेशानी

लिमिटेड ऐड-ऑन

कार इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय कार की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए जरूरी ऐड-ऑन जैसे जीरो डेप, रिटर्न टू इनवॉइस, इंजन प्रोटेक्शन कवर आदि खरीदना बहुत जरूरी है। सच यह है कि डीलर्स की तरफ से बंडल कार इंश्योरेंस पॉलिसियों पर दिए गए ऐड-ऑन आपकी कार को व्यापक सुरक्षा प्रदान करने में विफल होते हैं और कार मालिक की जरूरतों को भी पूरा नहीं करते हैं। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sajan Chauhan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस